होली के दिन हिंसा की आशंका : डीजीपी ओपी सिंह

- in लखनऊ

लखनऊ : होली पर्व का लोकसभा चुनाव के दौरान पडऩे से हिंसक घटनाएं होने की आशंका है। डीजीपी ओपी सिंह ने सोमवार को यह कहते सभी एडीजी, आईजी, डीआईजी व पुलिस कप्तानों को खास सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश देते हुए कहा, होलिका दहन व रंग खेलने के समय में असामाजिक तत्व व्यक्तिगत रंजिश के कारण वारदात करते हैं, जिससे सामाजिक व राजनीतिक परिदृश्य प्रभावित होते हैं। इसलिए विशेष सतर्कता बरती जाए। साथ ही उन्होंने संवेदनशील स्थानों पर प्रभावी पुलिस प्रबंध किए जाने का निर्देश दिया। डीजीपी ने होली से पहले शांति समितियों की बैठकें कराने, बाजारों में बम निरोधी दस्ते, खोजी कुत्ते, एंटी सबोटाज चेकिंग कराने व अग्निशमन की पर्याप्त व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने होली जुलूस के दौरान किसी प्रकार की कोई समस्या आने पर थाना प्रभारी को खुद मौके पर जाकर समाधान करने को कहा है। इसके साथ ही चलती रेलगाडयि़ों में किसी प्रकार का उपद्रव न हो, इसके लिए जरूरी व्यवस्था रखने के निर्देश दिए। डीजीपी ने कहा है कि पर्व में शराब की मांग तेजी से बढ़ती है। इसकी वजह से ग्रामीण इलाकों में अवैध शराब बनाई जाती है। इससे गंभीर घटनाएं हो जाती हैं। मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने होली के पर्व पर शांति व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश सभी जिलाधिकारियों व पुलिस कप्तानों को दिए। सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कहा कि इस दौरान चंदा वसूली और जहरीली शराब पर रोक लगाई जाए। उन्होंने अधिकारियों को यह सुनिश्चित कराने के लिए कहा कि कहीं कोई अप्रिय घटना न हो। इसके लिए हर जिले में कंट्रोल रूम स्थापित कर संदिग्ध गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने आपराधिक गतिविधियों व संदिग्ध लोगों पर नजर रखने के लिए मोबाइल दस्तों का गठन करने के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से फैलाई जाने वाली अफवाहों पर विशेष नजर रखकर आम जनता को सच्चाई से अवगत कराने को कहा। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में धार्मिक तनाव उत्पन्न नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके लिए पीस कमेटियों की बैठकें भी कर ली जाएं। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रमुख सचिव आबकारी कल्पना अवस्थी, आबकारी आयुक्त पी गुरु प्रसाद, पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनंद कुमार व अन्य अधिकारी मौजूद थे।