जेएनयू को केंद्र सरकार ने दिए 455 करोड़ रुपये

नयी दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के नए एकेडमिक भवन और हॉस्टल के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 455 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

मंत्रालय ने उच्च शिक्षा फंडिंग एजेंसी के जरिए यह फंड आवंटित किया है। इस फंड के जरिए विश्वविद्यालय में शोध केंद्र और समन्वित उद्यम संसाधन योजना प्रणाली भी विकसित की जाएगी। गौरतलब है कि पिछले दिनों जेएनयू में कई नए विशेष केंद्र और स्कूल खोले गए हैं। यह देखते हुए परिसर में छात्रों के लिए हॉस्टल आदि की बेहद जरूरत थी। आज यहां जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार जेएनयू में अटल इनक्यूबेशन सेंटर भी खुला है और इसके लिए तीन कंपनियां भी काम कर रही हैं। इस परियोजना में 100 कंपनियो का लक्ष्य रखा गया है।

जेएनयू के कुलपति एम जगदीश कुमार ने कहा है कि हेफा से मिले फंड का इस्तेमाल अटल बिहारी बाजपेई स्कूल ऑफ मैनेजमेंट एंड एंटरप्रेन्योरशिप के छात्रों और शोधार्थियों लिए होस्टल बनाने ,स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के लिए एकेडमिक भवन इन्क्यूबेशन सेंटर और विकसित पशु अनुसंधान केंद्र के लिए किया जाएगा जल्द ही भवन निर्माण कार्य शुरू होगा।

जेएनयू में हर साल करीब 1,30,000 छात्र दाखिला के लिए परीक्षा देते हैं जबकि 2000 छात्रों का ही दाखिला हो पाता है । यह देखते हुए विश्वविद्यालय ने एक ई लर्निंग विशेष केंद्र भी स्थापित किया है जिसके माध्यम से उन छात्रों को ऑनलाइन डिग्री दी जायेगी जिनका दाखिला नहीं हो सका। इन्हें जेएनयू के शिक्षक पढ़ाएंगे।