विश्व रिकॉर्ड की बराबरी करने के बावजूद बेहद निराश हैं केएल राहुल!

- in क्रिकेट, खेल
टीम इंडिया के ओपनर लोकेश राहुल ने श्रीलंका के खिलाफ पल्लेकली में जारी तीसरे व अंतिम टेस्ट की पहली पारी में 85 रन की उम्दा पारी खेली। इस बल्लेबाज के लिए ये अर्धशतकीय पारी बेहद खास रही क्योंकि उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में लगातार 7 अर्धशतक जड़ने के विश्व रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। विश्व रिकॉर्ड की बराबरी करने के बावजूद बेहद निराश हैं केएल राहुल!
 

हालांकि, दाएं हाथ के बल्लेबाज विश्व रिकॉर्ड बनाने के बावजूद बेहद निराश हिं। इस बारे में बात करते हुए राहुल ने स्पष्ट किया कि खुश होने के बजे खुद से निराश हैं। 25 वर्षीय बल्लेबाज के मुताबिक इसमें कोई शक नहीं कि ये ऐसी उपलब्धि है, जिस पर बल्लेबाज को गर्व महसूस हो, लेकिन उन्हें मलाल इस बात का है कि वो इसे बड़ी पारी में तब्दील नहीं कर पा रहे हैं। इसी वजह से वो काफी निराश हैं।
 

राहुल ने साथ ही कहा कि वो टीम के लिए उपयोगी योगदान देकर खुश जरुर हैं क्योंकि वो टीम को अच्छी शुरुआत दिलाने में मदद कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘अगर मैं शतक बनाता तो खुश होता। मुझे रिकॉर्ड का पता चला, लेकिन ऐसे रिकॉर्ड अपने नाम करने की खुशी नहीं है। मगर शून्य पर आउट होने से बेहतर है अर्धशतक जड़ना। व्यक्तिगत तौर पर ये निराशाजनक है, लेकिन टीम अच्छी शुरुआत हासिल कर रही है वो खुशी की बात है।’
 

राहुल को अर्धशतक को शतक में तब्दील करने का कारण खोजना है। इस बारे में उनका मानना है कि उन पर कोई दबाव नहीं है, लेकिन जल्द ही वो इस कमी को दूर करना चाहते हैं। राहुल ने कहा, ‘कोई परेशानी नहीं है। मगर मैं बड़ी पारी खेलना चाहता हूं। मैंने टीम प्रबंधन से काफी बातचीत की है और इसे सुधारने के लिए मुझे अपना प्रदर्शन सुधारने की जरुरत है।’
 

राहुल अब टेस्ट में लगातार 7 अर्धशतक लगाने वाले विश्व के बल्लेबाजों के स्पेशल क्लब में शामिल हो गए हैं। टेस्ट क्रिकेट में राहुल से पहले लगातार सात फिफ्टी लगाने वाले बल्लेबाज हैं- एवर्टन वीक्स (वेस्टइंडीज), एंडी फ्लॉवर (जिम्बाब्वे), शिवनारायण चंद्रपॉल (वेस्टइंडीज), कुमार संगकारा (श्रीलंका) और क्रिस रॉजर्स (ऑस्ट्रेलिया)। राहुल टेस्ट में लगातार 7 अर्धशतक लगाने वाले विश्व के छठे बल्लेबाज बने।राहुल ने लगातार 7वां अर्धशतक जड़कर पूर्व भारतीय दिग्गज बल्लेबाजों राहुल द्रविड़ और गुंडप्पा विश्वनाथ को पीछे छोड़ा, जिन्होंने टेस्ट में लगातार 6-6 अर्धशतक जड़े थे। बता दें कि बुखार की वजह से राहुल ने गॉल टेस्ट नहीं खेला था।