कोटकपूरा में सिखों का जबरदस्त रोष प्रदर्शन 14 अक्तूबर को

- in पंजाब

लुधियाना : दो साल पहले श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की हुई बेअदबी और बहिबल गोली कांड में मारे गए दो सिख नौजवानों और सैकड़ों जख्मियों को इंसाफ दिलवाने के लिए कोटकपूरा में 14 अक्तूबर को सिखों द्वारा 4 घंटे के लिए जबरदस्त रोष प्रदर्शन किया जाएंगा। यह जानकारी सरबत खालसा द्वारा नियुक्त जत्थेदार तख्त श्री दमदमा साहिब के भाई बलजीत सिंह दादूवाल ने इंसाफ मांगते हुए कहा कि उपरोक्त दुखदाई घटनाओं के मध्यनजर ना तो पूर्व अकाली बादल सरकार ने और ना ही वर्तमान कैप्टन सरकार ने 7 महीने बीत जाने के बावजूद इंसाफ दिया। उन्होंने यह भी कहा कि इंसाफ प्राप्त करने के लिए और दोषियों को सजा दिलवाने की खातिर कैप्टन अमरेंद्र सिंह कांग्रेस सरकार ने विधानसभा चुनावों से पहले किए गए झूठे आश्वासनों की पोल खोलने के लिए 14 अक्तूबर के दिन दोपहर 12 बजे से लेकर शाम 3 बजे तक कोटकपूरा चौक में जबरदस्त रोष प्रदर्शन किया जाएंगा। यह रोष प्रदर्शन सरबत खालसा द्वारा नियुक्त किए गए सिंह साहिबान जत्थेदार भाई जगतार सिंह हवारा, कार्यकारी जत्थेदार ध्यान सिंह मंड, जत्थेदार भाई अमरीक सिंह अजनाला और जत्थेदार भाई बलजीत सिंह दादूवाल द्वारा संयुक्त रूप से दिया गया है।
जत्थेदार दादूवाल के सहायक भाई जगबीर सिंह ने मीडिया को जारी प्रैस विज्ञप्ति में स्पष्ट कहा है कि इस रोष प्रदर्शन की अगुवाई उपरोक्त सिंह साहिबान सामूहिक रूप से करेंगे। जिक्रयोग है कि 2 साल पहले हुई गुरूग्रंथ साहिब जी की बेअदबी के उपरांत खूनी भिडंत की बलि चढ़ी इस घटना की दो जांच एजेंसियां और दो आयोग ने 400 से अधिक गवाहों के बयान लेने के बावजूद आरोपी कौन? इस सवाल का जवाब नहीं दे पाएं। पहले डेढ़ साल अकाली- भाजपा गठबंधन सरकार के दौरान एसआईटी, सीबीआई और जस्टिस जौरा सिंह आयोग ने जांच की किंतु परिणाम 0 और अब 6 माह से कांग्रेस सरकार की ओर से गठित जस्टिस रंजीत सिंह आयोग जांच कर रहा है। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया था। अब रंजीत सिंह आयोग द्वारा भी 150 से अधिक गवाहों के बयान दर्ज हो चुके है परंतु बेअदबी और गोलीकांड के पीछे किन लोगों का हाथ है, इसका जवाब आयोग ने अभी तक नहीं दिया, जिससे सिख समुदाय में विशेष रोष है।