Saturday, January 21, 2017 - 1:55 PM

आवरण कथा

आवरण कथा दस्तक-विशेष

दस्तक ब्यूरो अंसारी बंधुओं से दूरी बनाकर अखिलेश ने साहसिक फैसला लिया है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि उन्हें मुस्लिम वोटों की चिंता नहीं है। अखिलेश ...
Comments Off on अखिलेश का फैसला साहसिक
आवरण कथा दस्तक-विशेष

संजय सक्सेना किसी ने कहा कि यह रूढ़िवादी विचारों पर युवा सोच की जीत है। किसी को लगा कि यह जातिवादी सोच पर विकासवादी सियासत की जीत है। ...
Comments Off on अंसारी बंधुओं का चैप्टर बंद
आवरण कथा दस्तक-विशेष

ज्ञानेन्द्र शर्मा पहली बार सत्तारूढ़ समाजवादी खेमे में आपसी मनमुटाव खुलकर सामने आया है। अंदर-अंदर बहुत दिनों से उठापटक चलती रही है लेकिन पहली बार यह अब खुलकर ...
Comments Off on ये है अखिलेश की सपा
आवरण कथा दस्तक-विशेष

ज्ञानेन्द्र शर्मा भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश में उसी जाल में फंस गई दिखती है जिसे उसने राष्ट्रीय स्तर पर 2013 में बुना था। उस समय उसने नरेन्द्र ...
Comments Off on भाजपा का मुख्यमंत्री
आवरण कथा दस्तक-विशेष

देवव्रत वर्ष 2014 में जब लोकसभा चुनाव थे, तब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह थे। उस समय अमित शाह भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव हुआ करते थे। तब ...
Comments Off on शाह का नया ठिकाना यूपी
आवरण कथा दस्तक-विशेष

देश के धुरंधर कांग्रेसियों का मिशन यूपी संजय सक्सेना वर्ष 2017 में जिन पांच राज्यों (यूपी, पंजाब, गोवा, मणिपुर, उत्तराखंड) में विधान सभा चुनाव होने हैं उसमें उत्तर ...
Comments Off on जातिवादी सियासत में खत्री-मिस्त्री की ‘बलि’
आवरण कथा दस्तक-विशेष

दस्तक ब्यूरो पिछले कई चुनावों के बाद कांग्रेस अपने लिए गगनचुम्बी लक्ष्य तय करती नजर आ रही है। उसके नए कर्णधार प्रशांत किशोर कहते हैं कि जुलाई महीने ...
Comments Off on कांग्रेस के गगनचुम्बी लक्ष्य
आवरण कथा दस्तक-विशेष

संजय सक्सेना बसपा सुप्रीमो मायावती की बिखरती सियासत के बारे में लिखना चाहता था, लेकिन न जाने क्यों जहन में गीतों के ‘पर्यायवाची’ गोपाल दास नीरज जी का ...
Comments Off on शूल से चुभते माया के मीत
आवरण कथा दस्तक-विशेष

अब आई परीक्षा की घड़ी ज्ञानेन्द्र शर्मा चुनाव पूर्व की आखिरी छमाही शुरू होने से ठीक पूर्व 2017 की चुनाव डायरी के महत्वपूर्ण पन्ने एक झटके में खुल ...
Comments Off on चुनाव पूर्व आखिरी छमाही का घमासान
आवरण कथा दस्तक-विशेष

डॉ. रहीस सिंह पिछले दिनों भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया की सिरमौर अथवा अंधों में काना राजा, जैसे दो विपरीत संदेशों वाले जुमले सुनाई दिया। स्वाभाविक रूप से पहला पक्ष ...
Comments Off on जन सरोकारों से दूर हुयी अर्थव्यवस्था