Thursday, March 30, 2017 - 8:06 PM
Breaking News

दस्तक-विशेष

उत्तर प्रदेश दस्तक-विशेष विज्ञान शिक्षा

– प्रदीप कुमार सिंह, शैक्षिक एवं वैश्विक चिन्तक वाराणसी: आईआईटी बीएचयू के छात्रों ने दो साल की मेहनत के बाद ‘इन्फर्नो’ नाम की कार बनाई है। छात्रों का ...
Comments Off on आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?
दस्तक-विशेष लखनऊ

व्यंग्य लेख: वीना सिंह भई! किसी को मूर्ख बनाना तो फिर भी आसान है पर मूर्खता भुनाना सरल काम नहीं है। लेकिन जिसको भी मूर्खता भुनाना आ गया ...
Comments Off on मूर्खता भुनाने का कौशल
दस्तक-विशेष राजस्थान

व्यंग्य लेख : जगमोहन ठाकन कांग्रेस की तरह हर बार परीक्षा में फ़ेल होकर मुँह लटकाकर घर में चोरी छुप्पे घुसने वाला मेरा होनहार इस बार की अर्धवार्षिक ...
Comments Off on कुछ दिन तो गुजारो गुजरात ( माडल ) में
दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

वे लोगों से अभिवादन में केवल राम राम कहते थे, खाने में उन्हें सिर्फ़ रवा का हलवा, और बेसन का लपटा ही पसंद था। भगवान व भोजन के ...
Comments Off on ••राम रवा लपटा महाराज••
दस्तक-विशेष फीचर्ड विशेष लेख

स्त्री के प्रति पुरुष की दृष्टि में बदलाव होगा या नहीं? यह यक्ष प्रश्न है। किंतु सुश्री साक्षी व सिंधु जैसी कई अन्य स्त्रियों की वर्तमान महानतम उपलब्धियाँ ...
Comments Off on मुझे ये यक़ीं है खुदा है तुझमें
दस्तक-विशेष मध्यप्रदेश शख्सियत

(5 मार्च को जन्मदिवस पर विशेष)  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान में अनेक सद्गुण हैं लेकिन उनकी सबसे बड़ी विशेषता है दूसरों की मदद करना । यही वजह है ...
Comments Off on शिव की कीर्ति से गौरवांवित हुआ मध्यप्रदेश 
दस्तक-विशेष संपादकीय

मेरी कलम से… पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में चार राज्यों के चुनाव संपन्न हो चुके हैं और पांचवें सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के चुनाव अपने अंतिम ...
Comments Off on सम्पादकीय मार्च 2017
दस्तक-विशेष परदे के पार

  चचा के रवैये पर हैं सभी की निगाहें साइकिल वाली पार्टी में ऐन विधानसभा चुनाव से ठीक पहले जो कुछ भी घटा उससे तो कइयों के चेहरे ...
Comments Off on परदे के पार
दस्तक-विशेष साहित्य

  नई तर्ज की होली है ये होली बड़बोली है। पहले थी मनभावन होली मन फागुन तन सावन होली। प्यार से भीगी पावन होली नेताओं के जुमलों जैसी ...
Comments Off on फाग के भाग कहा कहिए
दस्तक-विशेष प्रसंगवश स्तम्भ

बलिहारी हो रंगों की सर्वत्र व्याप्त शून्यता से सिरजनहार अकुला उठे। अकुलाहट कौतूहल में तब्दील हो गई। कल्पना ने पहली बार अंगड़ाई ली। आड़ी-तिरछी रेखाएँ उभर आईं। आकृति ...
Comments Off on अपना-अपना रंग