Tuesday, January 23, 2018 - 3:28 AM

प्रसंगवश

प्रसंगवश

प्रसंगवश साल दर साल अनेक लोग अपने घरों की जवान-बूढ़ी विधवाओं को वृन्दावन के रेलवे स्टेशन पर छोड़कर नदारत हो जाते हैं। वे कभी लौटकर यह देखने नहीं ...
0
प्रसंगवश

प्रसंगवश यह अलग किस्म का दीक्षान्त समारोह है, जो अखिल भारतीय राजनीतिक विश्वविद्यालय के तत्वावधान में आयोजित हो रहा है और जिस प्रांगण में यह आयोजित हो रहा ...
0
प्रसंगवश

ज्ञानेन्द्र शर्मा : प्रसंगवश उत्तर प्रदेश में हाल में हुए पंचायत चुनावों में जिस तरह अपराधी पृष्ठभूमि वाले कई नेताओं ने बेधड़क हिस्सा लिया, उसने नरेन्द्र मोदी के उस ...
0
प्रसंगवश

ज्ञानेन्द्र शर्मा : प्रसंगवश एक बार तत्कालीन विदेश मंत्री जसवंत सिंह के साथ मैं रूस की यात्रा पर गया था। यात्रा के समापन पर दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ...
0
प्रसंगवश

ज्ञानेन्द्र शर्मा : प्रसंगवश चाहे जो सरकार हो, वह नोयडा और ग्रेटर नोयडा में ज्यादा से ज्यादा उद्यमियों को बुलाना चाहती है। वह निवेशकर्ताओं के सम्मेलन आयोजित करती है ...
0
प्रसंगवश

ज्ञानेन्द्र शर्मा : प्रसंगवश शराब की जगह-जगह खुली दुकानें, जिनमें से बहुतों के बाहर लिखा होता है- शराब की सरकारी दुकान। दुकान के बाहर शराब पीते लोग और वहां ...
0