Breaking News

दस्तक-विशेष

TOP NEWS ज्ञानेंद्र शर्मा दस्तक-विशेष फीचर्ड राजनीति स्तम्भ

ज्ञानेन्द्र शर्मा प्रसंगवश स्तम्भ: जो कभी भी कुछ भी करा दे, उसे पॅालिटिक्स कहते हैं। पूरी दुनिया के अच्छे-अच्छे, जाने-माने लोग हार जाते हैं जब उन्हें पॉलिटिक्स को ...
Comments Off on ये जो पॉलिटिक्स है
TOP NEWS दस्तक-विशेष फीचर्ड स्तम्भ

के.एन. गोविन्दाचार्य स्तम्भ: हमारे अभिभावक आदरणीय यशवंत राव केलकर जी “नानी तीन बार हँसी” आख्यान सुनाते थे। बात गहरी थी। उस कथा का अर्थ समझने मे जिन्दगी निकल जाय ...
Comments Off on शब्दों को बार-बार दोहराना एक बात है, शब्द के अर्थ को जीने की बात ही कुछ और है
दस्तक-विशेष फीचर्ड राजनीति स्तम्भ

डॉ.धीरज फुलमती सिंह व्यंग मुबंई: छुट भईया नेता और समाज सेवक इंसानो की यह वह नश्ल है,जो हर गली,नुक्कड,चौराहे पर आपको आसानी से घूमती नजर आ जाएगी। कभी ...
Comments Off on छुट भईया नेता या समाजसेवी कैसे बने?
दस्तक-विशेष फीचर्ड शख्सियत स्तम्भ

प्रो.संजय द्विवेदी भोपाल : जिद, जिजीविषा, जीवटता और जीवंतता एक साथ किसी एक आदमी में देखनी हो तो आपको अजीत जोगी के बारे में जरूर जानना चाहिए, पढ़ना। ...
Comments Off on अजीत जोगी-बहुत कठिन है उन-सा होना
ज्ञानेंद्र शर्मा दस्तक-विशेष फीचर्ड स्तम्भ

ज्ञानेन्द्र शर्मा प्रसंगवश स्तम्भ : हिन्दी पत्रकारिता के अंग्रेजीकरण ने अब कई नए आयाम खोज निकाले हैं। हिन्दी हेडलाइन्स के बीच अंग्रेजी के उपशीर्षक और हिन्दी के बेहतरीन ...
Comments Off on हिन्दी पत्रकारिता के उस पार
TOP NEWS दस्तक-विशेष फीचर्ड साहित्य

जय प्रकाश मानस ख्यात लेखक, जनसत्ता के संपादक प्रभाष जोशी जी का व्यक्तित्व ही ऐसा था कि बस्स, वे कहते रहें और आप सुनते रहें। सुनना आता हो ...
Comments Off on आदमी, आदमी हुआ तो इसलिए
TOP NEWS दस्तक-विशेष साहित्य

जय प्रकाश मानस प्रिय दोस्त की प्रिय लघुकथा एक बहुत अमीर आदमी था। उसके पास बहुत बड़ा महल था। देशी-विदेशी लंबी कारें थीं। एक और दो नम्बर की ...
Comments Off on पसीने की कहानी
TOP NEWS दस्तक-विशेष फीचर्ड साहित्य

जय प्रकाश मानस माटी की सिपाही हैं चींटियाँ। गुड़, गोरस या मिठाई, जो भी अतिरिक्त हों, एक दिन सब चट कर जाती हैं चींटियाँ। चींटियों का काम है ...
Comments Off on चीटियों को पसंद नहीं ऊँची आवाज़
जीवनशैली दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

अजीत सिंह स्वयं के जीवन से जुड़ा मार्मिक संस्मरण स्तम्भ: बड़ी घबराहट हो रही है, मन बडा बेचैन है, चक्कर आ रहा है, अरे जगदीश जाओ डॉक्टर को ...
Comments Off on बड़ा बेटा
TOP NEWS दस्तक-विशेष फीचर्ड राष्ट्रीय व्यापार स्तम्भ

डॉ. धीरज फुलमती सिंह मुम्बई: मै तो तुम्हारे लिए चाँद तारे तोड लाऊगा। अधिकतर आशिक, अपनी माशुका को ऐसा कह कर प्रभावित करने का प्रयास करते हैं। जबकि ...
Comments Off on राहत पैकेज का झुनझुना