Tuesday, January 23, 2018 - 3:23 AM

संपादकीय

संपादकीय

नोटबंदी के 50 दिन बीत जाने के बाद भ्रष्टाचार पर अंकुश का तो कोईअता-पता नहीं है कि आर्थिक सर्जिकल स्ट्राइक किस मोड में है। जैसे पाकिस्तान में की ...
Comments Off on सम्पादकीय जनवरी 2017
संपादकीय

राहत की बात है कि साल 2016 खत्म होने की कगार पर खड़ा है। गुजर रहा साल बहुत बुरा रहा है। इस साल उन सभी मूल्यों पर हमला ...
Comments Off on चुनौती भरे दौर में दुनिया
संपादकीय

राष्ट्र निर्माण दीर्घकालिक साधना है, लेकिन वर्तमान राजनीति में दीर्घकाल नहीं होता। संसद भारत भाग्य विधाता है, सवा अरब भारतीय जन-गण-मन की सर्वोच्च प्रतिनिधि पंचायत है, लेकिन अल्पकालिक ...
Comments Off on आत्मचिंतन का अवसर
संपादकीय

क्या भारत में केंद्रीय स्तर पर गठबंधन की राजनीति की गुंजाइश खत्म हो गई है? केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बने ढाई साल हो गए ...
Comments Off on नेतृत्व की तलाश में विपक्ष
संपादकीय

 साल 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी के साहसिक निर्णय के लिए भारत में लंबे समय तक याद किया जाएगा। यह शायद हाल के वर्षों में किसी ...
Comments Off on बड़े बदलाव का साल

साल 2016 का अंत होने वाला है और अलेप्पो की जनता अपने प्यारे शहर को आतंकवादियों के चंगुल से मुक्त होने का जश्न मना रही है। सीरिया की ...
Comments Off on अलेप्पो की आजादी का अर्थ
संपादकीय

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जर्मनी, तुर्की और स्विट्जरलैंड में इस्लामी जिहादी हमलों को ईसाइयत पर आक्रमण बताया और कहा कि जब ईसाई समाज त्योहार मना ...
Comments Off on जिहाद का असली चेहरा
संपादकीय

पांच सौ और एक हजार के नोटों का चलन बंद करने की घोषणा के बाद केंद्र सरकार के साथ ही तमाम विशेषज्ञों का अनुमान था कि करीब तीन-चार ...
Comments Off on आर्थिक माहौल की चिंता
संपादकीय

अभिभावकों और बच्चों के बीच प्यार का अटूट और शाश्वत संबंध मानव सभ्यता के विकास की धुरी बना रहा है। प्रत्येक मां-बाप की सबसे सहज और संतोष देने ...
Comments Off on कर्तव्य निर्वाह में कोताही

पंजाब में विधानसभा चुनाव जैसे जैसे नजदीक आ रहे हैं अलग अलग विभागों के कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन तेज होता जा रहा है। शिक्षा, सेहत, परिवहन सहित कई ...
Comments Off on जनता की परेशानी