Breaking News

साहित्य

TOP NEWS राष्ट्रीय साहित्य

रामकुमार सिंह स्तम्भ: राम हम सभी के आधारभूत अविनाशी तत्व जो जड और चेतन सबमे विद्मान। कही व्यक्त रूप से तो कही अव्यक्त रूप से। मनुष्य की संरचना ...
Comments Off on क्यों जरूरी है राम मंदिर
साहित्य

लखनऊ: जानकीपुरम,लखनऊ स्थित ‘भूषण सदन ‘ में सामाजिक-सांस्कृतिक एवं साहित्यिक संस्था ‘सुन्दरम् ‘ के तत्वावधान में आयोजित मासिक आयोजन में केंद्रीय विद्यालय,अलीगंज की प्रधानाचार्या व कवयित्री संगीता यादव ...
Comments Off on ‘ढोंगी लंपट चोर ही, देते जग को सीख’, रचना को मिली काफी सराहना
अद्धयात्म राष्ट्रीय साहित्य

रामकुमार सिंह मॉ भगवती हम सभी के अंदर प्राण शक्ति के रूप में विद्यमान हैं, आईये अपने अंदर ही छुपी इस अदृश्य शक्ति को प्रकट करना सीखे । ...
Comments Off on कैसे प्रकट करे अपने अंदर बैठी दुर्गा को।

लखनऊ। प्रख्यात साहित्यकार पं. हरि ओम शर्मा ‘हरि’ द्वारा लिखित 17वीं पुस्तक एवं उर्दू भाषा में प्रकाशित पुस्तक  ‘जज्बात, जुनून, जन्नत’ का भव्य विमोचन मोती महल वाटिका में चल ...
Comments Off on ‘जज्बात, जुनून, जन्नत’ युवा पीढ़ी को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने में सक्षम
साहित्य

लखनऊ, 16 सितम्बर, 2019: ‘काव्य  क्षेत्रे’ साहित्यिक संस्था के तत्वावधान में हिंदी दिवस के अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी में  वरिष्ठ  कवि  श्री कमल किशोर ...
Comments Off on गूगल बाबा से नहीं, गुरु से मिलता ज्ञान
साहित्य

लखनऊ: योगदा सत्संग ध्यान केंद्र, लखनऊ, द्वारा आयोजित तीन दिवसीय साधना संगम के दूसरे दिवस की शुरुआत सामूहिक शक्ति संचार व्यायाम तथा सामूहिक ध्यान से हुई। परमहँस योगानन्द ...
Comments Off on आत्म साक्षात्कार के आध्यात्मिक प्रयासों को शक्ति देता है सामूहिक ध्यान: योगदा सत्संग
राष्ट्रीय लखनऊ साहित्य

शक्ति संचार और व्यायाम कि 38 एक्सरसाइज शरीर में करती है अत्याधिक स्फूर्ति का संचार लखनऊ : योगदा सत्संग ध्यान में चल रहे तीन दिवसीय साधना संगम के ...
Comments Off on क्रिया योग साधना के अद्भुत लाभ : स्वामी कृष्णानन्दा
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस सतारा के पंचगनी से लेकर महाबलेश्वर तक की सरजमीं को सुरम्य बनानेवाली पहाड़ी जनपद में छोटी-सी बस्ती है – भिलार। मुश्किल से दो ढ़ाई सौ ...
Comments Off on देश का पहला ‘पुस्तक-गाँव’
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस बहुत दिनों के बाद आज छत पर पहुँचा तो पाया कि बाक़ी पौधे तो शांत और गंभीर हैं लेकिन शमी की नन्हीं-नन्ही डालियाँ जैसे झूम ...
Comments Off on शमी के समीप क्षण भर…
मनोरंजन राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस अपनी सफलता में औरों को एकाध शख़्सियत ही श्रेय दे पाते हैं । खय्याम साहब ऐसे ही संगीतकार थे । कल वही महान् कलाप्रेमी हमेशा ...
Comments Off on तो ऐसे थे खय्याम साहब…