Breaking News

साहित्य

साहित्य

लखनऊ, 16 सितम्बर, 2019: ‘काव्य  क्षेत्रे’ साहित्यिक संस्था के तत्वावधान में हिंदी दिवस के अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी में  वरिष्ठ  कवि  श्री कमल किशोर ...
Comments Off on गूगल बाबा से नहीं, गुरु से मिलता ज्ञान
साहित्य

लखनऊ: योगदा सत्संग ध्यान केंद्र, लखनऊ, द्वारा आयोजित तीन दिवसीय साधना संगम के दूसरे दिवस की शुरुआत सामूहिक शक्ति संचार व्यायाम तथा सामूहिक ध्यान से हुई। परमहँस योगानन्द ...
Comments Off on आत्म साक्षात्कार के आध्यात्मिक प्रयासों को शक्ति देता है सामूहिक ध्यान: योगदा सत्संग
राष्ट्रीय लखनऊ साहित्य

शक्ति संचार और व्यायाम कि 38 एक्सरसाइज शरीर में करती है अत्याधिक स्फूर्ति का संचार लखनऊ : योगदा सत्संग ध्यान में चल रहे तीन दिवसीय साधना संगम के ...
Comments Off on क्रिया योग साधना के अद्भुत लाभ : स्वामी कृष्णानन्दा
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस सतारा के पंचगनी से लेकर महाबलेश्वर तक की सरजमीं को सुरम्य बनानेवाली पहाड़ी जनपद में छोटी-सी बस्ती है – भिलार। मुश्किल से दो ढ़ाई सौ ...
Comments Off on देश का पहला ‘पुस्तक-गाँव’
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस बहुत दिनों के बाद आज छत पर पहुँचा तो पाया कि बाक़ी पौधे तो शांत और गंभीर हैं लेकिन शमी की नन्हीं-नन्ही डालियाँ जैसे झूम ...
Comments Off on शमी के समीप क्षण भर…
मनोरंजन राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस अपनी सफलता में औरों को एकाध शख़्सियत ही श्रेय दे पाते हैं । खय्याम साहब ऐसे ही संगीतकार थे । कल वही महान् कलाप्रेमी हमेशा ...
Comments Off on तो ऐसे थे खय्याम साहब…
जीवनशैली साहित्य

जय प्रकाश मानस मशहूर लेखक जार्ज बर्नाड शा को एक दावत में आमंत्रित किया गया था और वो अपने काम से थके मांदे सीधे ही जब उस दावत ...
Comments Off on कपड़ों को खिलाओ दावत !
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस ”मैंने सबसे पहला कार्टून तब बनाया जब मैं स्कूल में पढ़ रहा था । काफ़ी ग़रीब होने के कारण माँ-बाप मेरी पढ़ाई का ख़र्चा नहीं ...
Comments Off on भीख में मिली किताब ने बनाया कार्टूनिस्ट
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस पीपुल्स लिंग्विस्टिक सर्वे ऑफ इंडिया (पीएलएसआई) नामक संस्था ने चिंता जताई है : “अगले 50 सालों में भारत में बोली जाने वाले आधे से अधिक ...
Comments Off on कहीं आपकी भाषा समाप्त न हो जाये !
राष्ट्रीय साहित्य

जय प्रकाश मानस मैं तो उस जगह की कल्पना ही नहीं कर सका था. यह तो मेरे प्रिय मित्र और राष्ट्रधर्म के संपादक कृष्ण नागपाल ही हैं जिनके ...
Comments Off on घने जंगलों के बीच महकता कोई वनफूल