Breaking News

साहित्य

सेवासदन के 100 वर्ष पूर्ण होने पर संगोष्ठी का आयोजन
उत्तर प्रदेश साहित्य

वाराणसी, 06 सितम्बर। डी.ए.वी. पीजी काॅलेज के हिन्दी विभाग के तत्वावधान में गुरूवार को मुंशी प्रेमचन्द्र के उपन्यास ‘सेवासदन’ के सौ वर्ष पूर्ण होने पर भारतीय समाज में ...
Comments Off on सेवासदन के 100 वर्ष पूर्ण होने पर संगोष्ठी का आयोजन
अद्धयात्म आशुतोष राणा दस्तक-विशेष फीचर्ड साहित्य स्तम्भ

स्तम्भ: वे अपने महल के विशाल कक्ष में बेचैनी से चहल क़दमी कर रहे थे, मृत्यु के मुख पर खड़े होने के बाद भी जो अपनी बाँसुरी से ...
Comments Off on वासुदेव_कृष्ण : आशुतोष राणा की कलम से.. {भाग_१}
अद्धयात्म आशुतोष राणा दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

स्तम्भ : कंस ने लगभग डाँटते हुए कहा- मुझे बहलाओ मत कृष्ण। मैं गोकुल की गोपी नहीं हूँ, जो तुम्हारे बोले गए प्रत्येक शब्द को सत्य मान लूँ। ...
Comments Off on वासुदेव_कृष्ण : आशुतोष राणा की कलम से..{भाग_२]
अद्धयात्म आशुतोष राणा दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

स्तम्भ : कृष्ण अपने हृदय की आत्मीयता को कंस पर उड़ेलते हुए बोले- मुक्त होने के लिए रिक्त होना पड़ता है मामा। कृष्ण एक ऐसा रिक्त पात्र है ...
Comments Off on वासुदेव_कृष्ण : आशुतोष राणा की कलम से.. {भाग_३}
अद्धयात्म आशुतोष राणा दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

स्तम्भ : कृष्ण, मेरी माँ पवनरेखा अनिंद्य सुंदरी थी, अपने पति उग्रसेन के प्रति पूर्णतः समर्पित। किंतु किसी भी स्त्री के लिए सम्बंध से अधिक महत्वपूर्ण सम्मान होता ...
Comments Off on वासुदेव_कृष्ण : आशुतोष राणा की कलम से… {भाग_४}
आशुतोष राणा दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

स्तम्भ: मेरा अनुभव है कृष्ण, कि #दुर्भाग्य व्यक्ति को #अपने_पास_बुलाता_है, किंतु #सौभाग्य व्यक्ति तक #स्वयं ही पहुँच जाता है। कंस मधुर हास्य से हँसते हुए बोला- देखो ना, ...
Comments Off on वासुदेव_कृष्ण :आशुतोष राणा की कलम से स्तम्भ {भाग_५]
अद्धयात्म आशुतोष राणा दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

स्तम्भ : मेरी माँ पवनरेखा जब अपने पितृगृह पहुँची तब वह अपने पति से विरह और हृदय की वेदना से बुरी तरह प्रभावित थी। मन की शांति के ...
Comments Off on वासुदेव_कृष्ण :आशुतोष राणा की कलम से.. {भाग ६} 
अद्धयात्म दस्तक-विशेष फीचर्ड साहित्य स्तम्भ

अध्यात्म : भगवान् को प्राप्त करने का अभियान भगवद्जन के लिए जितना सरल और सरस है विषयी व्यक्ति के लिए उतना ही कठिन और नीरस है। भगवान् कोई आकार ...
Comments Off on संसार भगवान की छाया, भगवान मिल जाए तो छाया के लिए प्रयास करने की क्या जरूरत
अद्धयात्म दस्तक-विशेष फीचर्ड साहित्य

अध्यात्म : संसार में हाथ, दो पैर वाले जीवों की भरमार है। सामान्यतया उन्हें ‘मनुष्य’ कहते है। लेकिन ‘मनुष्य’ ये सब-के-सब होते नहीं। दो हाथ, दो पैर तो ...
Comments Off on सर्वकल्याणकारी प्रेम : सर्वनाशक मोह
अद्धयात्म फीचर्ड साहित्य

अध्यात्म : सुतीक्ष्ण जी अगस्त्य मुनि के शिष्य थे। शिक्षा प्राप्त कर लेने के पश्चात् सुतीक्ष्ण ने गुरुजी से दक्षिणा हेतु प्रार्थना की। गुरुजी ने दक्षिणा लेने से इन्कार ...
Comments Off on सुतीक्ष्ण जी की विलक्षण गुरुदक्षिणा : स्वयं राम की प्राप्ति कर साक्षात राम को ले जाकर अपने गुरु को किया समर्पित