Breaking News

स्तम्भ

दस्तक-विशेष स्तम्भ

लखनऊ : बात चाहे ढाई साल की हो या फिर पांच साल की। इतना तय है कि 2017 का विधान सभा चुनाव बीजेपी ने मोदी के चेहरे पर ...
Comments Off on यूपी सरकार के ढाई साल : अभी फीका नहीं पड़ा है योगी का करिश्मा
दस्तक-विशेष स्तम्भ

डॉ. जगदीश गांधी लखनऊ : संयुक्त राष्ट्र संघ ने शांति के महत्व को स्वीकार करते हुए 1981 में एक प्रस्ताव पास किया था 21 सितम्बर को प्रति वर्ष ...
Comments Off on अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति दिवस (21 सितम्बर) पर सभी विश्ववासी मिलकर विश्व एकता तथा विश्व शान्ति का लें संकल्प!
दस्तक-विशेष स्तम्भ

डॉ. अजय खेमरिया इन्दिरा, नेहरू,को भी नहीं मानना चाहते कांग्रेस के नेता कांग्रेस में कभी थिंक टैंक काम किया करता था, जिसमें पढ़ने—लिखने वाले नेता हुआ करते थे, ...
Comments Off on लोकपथ से कांग्रेस को दूर धकेलता जनपथ…!
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर विशेष स्तम्भ : भारत देवभूमि है। यहां पर त्यागी तपस्वी महापुरूषों के जन्म लेने और समाज के हित अपना संपूर्ण जीवन ...
Comments Off on विकास व विश्वास के पर्याय नरेन्द्र मोदी
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित : ऋग्वेद के अधिकांश देवता प्रकृति की शक्ति हैं। सूर्य, पृथ्वी, जल, वायु, मरूत, नदी आदि देव प्रकृति में प्रत्यक्ष हैं। लेकिन इन्द्र प्रकृति की प्रत्यक्ष ...
Comments Off on ऋग्वेद के अधिकांश देवता प्रकृति की शक्ति
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पांचवें सरसंघचालक कुपहल्ली सीतारमैया सुदर्शन मधुर, सरल व्यक्तित्व के धनी थे। उनका जैसा विराट व्यक्तित्व था उसी तरह उनका बौद्धिक इतना ...
Comments Off on मधुर, सरल व्यक्तित्व के धनी कुप. सी. सुदर्शन
दस्तक-विशेष स्तम्भ

डॉ. अजय खेमरिया : पूरी दुनियां में 15 सितंबर को लोकतंत्र दिवस मनाया जाता है। इस आयोजन का मूल उद्देश्य इस बेहतरीन जीवन और सुशासन पद्धति को दुनिया ...
Comments Off on छलावे और सत्ता की मशीनरी के बीच दुनिया में लोकतंत्र की यात्रा: लोकतंत्र दिवस 15 सितंबर पर विशेष
दस्तक-विशेष स्तम्भ

आज भी भारत में औपनिवेशिक मानसिकता से चलती है आईएएस बिरादरी डॉ अजय खेमरिया : मध्य प्रदेश में छतरपुर के कलेक्टर हैं मोहित बुंदस। सीधी भर्ती के आईएएस ...
Comments Off on विधायक जी, कलेक्टर जिले का महाराजा होता है!
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू : भविष्य के भारत की कल्पना करने से पहले हमें अपनी गौरवशाली परंपरा का स्मरण करना होगा। हम क्या थे कहां थे आज कहां हैं। वैदिक ...
Comments Off on भविष्य का भारत : व्यक्ति प्रकृति और संस्कृति के अनुकूल बने शासन की नीतियां
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित : हम सब प्रकृति का अंश हैं। इसलिए प्रकृति से आत्मीय सम्बंध स्वाभाविक ही श्रेष्ठ होते हैं। ऐसे सम्बन्ध बनाना ऋग्वेद के ऋषियों का स्वभाव है। ...
Comments Off on ऋषि पृथ्वी को माता कहते हैं और आकाश को पिता