Monday, February 19, 2018 - 3:27 PM

स्तम्भ

दस्तक-विशेष फीचर्ड साहित्य स्तम्भ

माता पिता ने उनका नाम रामचंद्र रखा था। किंतु मेट्रिक की परीक्षा देने से ठीक पहले, वे एक शपथपत्र देकर वैधानिक रूप से रामचंद्र से बदलकर ‘लामचंद’ हो ...
Comments Off on लामचंद की लालबत्ती
दस्तक-विशेष स्तम्भ

नवीन जोशी उत्तराखण्ड और उत्तर प्रदेश में भाजपा की प्रचण्ड जीत बताती है कि नरेंद्र मोदी का जादू जनता के सिर चढ़कर बोला है। वे कुशल मदारी या ...
Comments Off on ब्राण्ड-मोदी की प्रचण्ड विजय में खतरे के संकेत भी
दस्तक-विशेष स्तम्भ

आशुतोष राणा की कलम से (अपने जीवंत और प्रभावशाली अभिनय के बलबूते आशुतोष राणा ने सिनेजगत में जो ख्याति अर्जित की है वह सभी जानते हैं लेकिन यह ...
Comments Off on बीसीपी उर्फ़ भग्गू पटेल
दस्तक-विशेष स्तम्भ

सुभाष गाताडे अपनी सन्तान को क्या माता पिता के नाम जुड़ी जाति तथा धर्म की पहचान के संकेतकों से नत्थी करना अनिवार्य है। हैदराबाद उच्च न्यायालय ने स्वीकृत ...
Comments Off on बच्चे का धर्म
दस्तक-विशेष स्तम्भ

मृत्युंजय पाण्डेय बहुत प्रसिद्ध कहावत है ‘घर को आग लगी, घर के चिराग से ही।’ आज भोजपुरी के साथ भी यही हो रहा है, इस बोली के सहारे ...
Comments Off on भोजपुरी का दुख 
दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

वे लोगों से अभिवादन में केवल राम राम कहते थे, खाने में उन्हें सिर्फ़ रवा का हलवा, और बेसन का लपटा ही पसंद था। भगवान व भोजन के ...
Comments Off on ••राम रवा लपटा महाराज••
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बलिहारी हो रंगों की सर्वत्र व्याप्त शून्यता से सिरजनहार अकुला उठे। अकुलाहट कौतूहल में तब्दील हो गई। कल्पना ने पहली बार अंगड़ाई ली। आड़ी-तिरछी रेखाएँ उभर आईं। आकृति ...
Comments Off on अपना-अपना रंग
दस्तक-विशेष स्तम्भ

8 मार्च अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष लेखन तो किसी के लिए भी चुनौती ही होता है चाहे वह पुरुष हो या नारी। नारी की चूंकि पारंपारिक भूमिका ...
Comments Off on महिला लेखन की चुनौतियां
दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

डॉक्टर लालचंद साठी, जिनके कर्मों के कारण क़स्बे के लोग उनको डॉक्टर लाठी कहने लगे।जिस गली में वे रहते थे उस बेनाम गली को लोगों ने उनका नाम ...
Comments Off on ••• लाठी गली •••
दस्तक-विशेष स्तम्भ

सुभाष गताडे शिवपुरी (मध्य प्रदेश) से आयी एक खबर को लेकर देशभर में बाल अधिकारों के लिए सक्रिय लोगों में जबरदस्त आक्रोश की स्थिति बनती दिख रही है। ...
Comments Off on कब सुनिश्चित होगा बच्चों का खेलकूद अधिकार?