Breaking News

स्तम्भ

फीचर्ड स्तम्भ

है नरेंद्र मोदी के वुजूद पर हिंदोस्तां को नाज कहते हैं उसे अहल-ए-नजर ही इमाम-ए-पदक हम जब भी किसी मामले में तुलना करते हैं तो यह आवश्यक नहीं ...
Comments Off on समय मिले तो नेहरू, वाजपेयी और इंदिरा से आगे निकलेंगे नरेंद्र मोदी
BREAKING NEWS उत्तर प्रदेश उत्तराखंड दिल्ली राज्य राष्ट्रीय लखनऊ स्तम्भ

  नई दिल्ली : 18 अगस्त को लोअर माल रोड का एक हिस्सा टूटकर नैनी झील में समा गया था। इससे पहले बचाव की उचित व्यवस्था हो पाती ...
Comments Off on नैनीताल, माल रोड के 140 मीटर हिस्से पर भी मडराय खतरा, जाने पूरा मामला
लखनऊ स्तम्भ

लखनऊ : विश्व में जो धर्म के नाम पर लड़ाई-झगड़ा हो रहा है, उसके पीछे एकमात्र कारण हमारा अज्ञान है। प्रायः लोग कहते हैं कि प्रभु का स्मरण ...
Comments Off on प्रभु का स्मरण करने का रास्ता भी एक है तथा मंजिल भी एक है!
फीचर्ड स्तम्भ

भारत के अवनि-अम्बर शोक ग्रस्त हैं। भारत रत्न और तमाम असम्भवों का संभवन अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे। वे एक अटल थे और बिहारी भी। ईशावास्योपनिषद् के एक ...
Comments Off on मधुमय शब्द प्रयोग के जादूगर थे ‘अटल’
उत्तर प्रदेश राज्य लखनऊ स्तम्भ

लखनऊ : असहयोग आंदोलन भले ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की अगुवाई में परवान चढ़ा हो, लेकिन राजधानी के फिरंगी महल में इस आंदोलन की इबारत1858 में ही लिखी ...
Comments Off on लखनऊ: 1858 में ही लिखी जा चुकी थी इबारत, फिरंगी महल में ठहरे महात्मा गांधी: जाने इतिहास
उत्तर प्रदेश दिल्ली फीचर्ड राजनीति राष्ट्रीय लखनऊ स्तम्भ

लखनऊ : अटल बिहारी वाजपेयी यानि एक ऐसा नाम जिसने भारतीय राजनीति को अपने व्यक्तित्व और कृतित्व से इस तरह प्रभावित किया जिसकी मिसाल नहीं मिलती। एक साधारण ...
Comments Off on अटल बिहारी वाजपेयी होने का मतलब
साहित्य स्तम्भ

‘स्वतंत्र’ का अर्थ गहरा है। स्व का अर्थ सुस्पष्ट है। स्व यानी मैं। मेरा अन्तःक्षेत्र। हमारी अपनी अनुभूति। प्रत्येक व्यक्ति का अंतःकरण ‘स्व’ है। प्रत्येक प्राणी आनंद का ...
Comments Off on स्वतंत्र, स्वभाव, स्वराज और स्वाभिमान
लखनऊ साहित्य स्तम्भ

नया शैक्षिक सत्र चरित्र निर्माण का वर्ष हो बच्चों को भौतिक के साथ ही सामाजिक एवं आध्यात्मिक शिक्षा भी दें : हमारा मानना है कि मनुष्य एक (1) ...
Comments Off on निर्माणों के पावन युग में हम चरित्र निर्माण न भूलें : डाॅ. जगदीश गाँधी
अद्धयात्म फीचर्ड साहित्य स्तम्भ

‘हमारे पूर्वजों ने धरती को माता और आकाश को पिता बताया’ ‘हम भारत के लोग’ हैं। यही हमारा मूल परिचय है। भारत हमारा कुल, गोत्र, वंश और माता ...
Comments Off on ‘हम भारत के लोग’ : हृदयनारायण दीक्षित
अद्धयात्म फीचर्ड साहित्य स्तम्भ

‘दर्शन’ का मूल उद्देश्य संसार को समझना और विश्व को आनंद से भरना है संसार हमारा आश्रय है। हम संसार का भाग है और संसार में है। इसका ...
Comments Off on अंधविश्वासी नहीं है भारतीय चिंतन