Monday, July 23, 2018 - 11:31 AM
Breaking News

स्तम्भ

दस्तक-विशेष स्तम्भ

बलिहारी हो रंगों की सर्वत्र व्याप्त शून्यता से सिरजनहार अकुला उठे। अकुलाहट कौतूहल में तब्दील हो गई। कल्पना ने पहली बार अंगड़ाई ली। आड़ी-तिरछी रेखाएँ उभर आईं। आकृति ...
Comments Off on अपना-अपना रंग
दस्तक-विशेष स्तम्भ

8 मार्च अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष लेखन तो किसी के लिए भी चुनौती ही होता है चाहे वह पुरुष हो या नारी। नारी की चूंकि पारंपारिक भूमिका ...
Comments Off on महिला लेखन की चुनौतियां
दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

डॉक्टर लालचंद साठी, जिनके कर्मों के कारण क़स्बे के लोग उनको डॉक्टर लाठी कहने लगे।जिस गली में वे रहते थे उस बेनाम गली को लोगों ने उनका नाम ...
Comments Off on ••• लाठी गली •••
दस्तक-विशेष स्तम्भ

सुभाष गताडे शिवपुरी (मध्य प्रदेश) से आयी एक खबर को लेकर देशभर में बाल अधिकारों के लिए सक्रिय लोगों में जबरदस्त आक्रोश की स्थिति बनती दिख रही है। ...
Comments Off on कब सुनिश्चित होगा बच्चों का खेलकूद अधिकार?
दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ

हिन्दी को अच्छा करने का सबसे तगड़ा उपाय तो यह ही हो सकता है कि पुरस्कार ख़त्म कर दिए जाएं। लेखक बिना पुरस्कार के मर जाएं तो ज्यादा ...
0
जीवनशैली दस्तक-विशेष फीचर्ड स्तम्भ

सदियां बीतीं पर अभी भी इन्ही विचारधाराओं का पालक-पोषक है हमारा यह भारतीय समाज। देवी की उपासना में लीन, पुजारियों-पंडों से भरे मंदिर में भी स्त्री के साथ ...
0
उत्तर प्रदेश दस्तक-विशेष फीचर्ड राष्ट्रीय लखनऊ शख्सियत संपादकीय साहित्य स्तम्भ

अजीब विडम्बना है कि दस्तक तो हाथों से दी जाती है, लेकिन पूजे पांव जाते हैं। दस्तक तो हुजू़र एक शायराना शब्द है। चूंकि ये उर्दू का शब्द ...
0
स्तम्भ

नवम्बर से सरकारी स्कूलों में मुफ्त सेनेटरी नैपकिन बांटने के लिए शासन ने बीस करोड़ रुपये जारी कर बीएसए व डीआईओएस को इसका जिम्मा सौंपा है। मुख्य सचिव ...
0