ICC का बड़ा फैसला: जल्द ही क्रिकेट में खत्म कर दी जाएगी टॉस करने की परम्परा

- in खेल

ये तो सब जानते है कि क्रिकेट में हर मैच की शुरुआत टॉस से की जाती है. जी हां टॉस करके ही ये तय किया जाता है कि कौन सी टीम पहले खेलेगी और टॉस जीतने वाली टीम ये तय करती है कि वो पहले बैटिंग करेंगे या गेंदबाजी करेंगे. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो क्रिकेट की दुनिया में टॉस का काफी महत्व है. मगर यदि खबरों की माने तो अब टेस्ट क्रिकेट से मुख्य रूप से जुड़े टॉस को खत्म किया जा सकता है. जी हां आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आईसीसी क्रिकेट समिति इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए भी तैयार है कि क्या मैच से पहले सिक्का उछालने यानि टॉस करने की परम्परा को खत्म किया जाए या नहीं. जिसके तहत टेस्ट चैंपियनशिप में घरेलू मैदानों से मिलने वाले फायदे को कम किया जा सके.ICC का बड़ा फैसला: जल्द ही क्रिकेट में खत्म कर दी जाएगी टॉस करने की परम्परा

गौरतलब है कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सिक्का उछालने यानि टॉस करने की परम्परा इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच साल 1877 में खेले गए पहले टेस्ट मैच से ही चली आ रही है. यानि यह परम्परा काफी पुरानी है. इसके इलावा आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मैच से पहले सिक्का घरेलू टीम का कप्तान ही उछालता है. जिसके बाद मेहमान टीम का कप्तान हेड या टेल बोलता है. मगर हाल ही में इस परम्परा पर कई सवाल उठाएं गए है. जी हां इस बारे में आलोचकों का कहना है कि इससे मेजबान यानि घरेलू मैदान में खेलने वाली टीम को काफी फायदा होता है.

वही इस बारे में समिति के एक से ज्यादा सदस्यों का ये मानना है कि हर मैच में मेहमान टीम को ही टॉस करके फैसला करने का अधिकार मिलना चाहिए. इसके इलावा समिति में कुछ सदस्य ऐसे भी है, जिन्होंने अभी तक अपने विचार व्यक्त नहीं किये है. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि साल 2016 में काउंटी चैंपियनशिप में टॉस नहीं किया गया था. आपको जान कर ताज्जुब होगा कि भारत में भी इसे घरेलू स्तर पर हटाने का प्रस्ताव रखा गया था. हालांकि भारत ने इस प्रस्ताव को स्वीकार करने से मना कर दिया. वही इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने ये दावा किया है कि उनके इस फैसले के बाद मैच काफी लम्बे चले थे और गेंद तथा बल्लेबाजी के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा देखने को भी मिली.

गौरतलब है कि आईसीसी क्रिकेट समिति में पूर्व कप्तान अनिल कुंबले, एंड्र्यू स्ट्रास, महेला जयवर्धने, राहुल द्रविड़, टिम में, न्यूजीलैंड क्रिकेट के मुख्य कार्यकारी डेविड वाइट, एम्पायर रिचर्ड केटेलबोरोग, आईसीसी मैच के रेफरी प्रमुख रंजन मदुगले, शान पोलॉक और कलेरी कोनोर आदि सब सदस्य शामिल है. हालांकि इस बात को लेकर अभी चर्चा चल रही है कि क्या वास्तव में मैच से पहले टॉस करने की परम्परा को हटा देना चाहिए, क्यूकि यह एक बेहद खास परम्परा है. जिससे मैच की शुरुआत होती है और कौन सी टीम पहले बल्लेबाजी करेगी इस बात का फैसला किया जाता है.

बरहलाल हम तो यही उम्मीद करते है क्रिकेट की दुनिया में आने वाला यह नया परिवर्तन हर खिलाडी और मैच देखने वाले दर्शको के लिए रोमांचकारी और सही साबित हो.