PM मोदी बोले- 2022 तक अंतरिक्ष में पहुंचेंगी बेटियां, मुस्लिम महिलाओं को सम्मान दिलाकर रहूँगा

72 वें स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपना 5वां और इस सरकार का आखिरी भाषण दिया। अपने 82 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने हर मुद्दे पर बात की। उन्होंने एक बार फिर कहा कि हम सबका साथ और सबका विकास के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए मुसलमाों, दलितों और गरीबों पर भी अपनी बात रखी। जानिए पीएम मोदी ने किस पर क्या कहा।

महिला सशक्तिकरण

महिला सशक्तिकरण पर बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन तलाक के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ गंभीर अन्याय होता है। इस कुप्रथा को खत्म करने के लिये हम प्रयासरत हैं लेकिन कुछ लोग इसे खत्म नहीं करने देना चाहते। मैं मुस्लिम बहनों को विश्वास दिलाता हूं कि हम उन्हें न्याय दिलाने के लिये पूरा प्रयास करेंगे। राक्षसी प्रवृत्ति पर प्रहार करने की आवश्यकता है, महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान को अक्षुण्ण रखने के लिये किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती।

2022 तक अंतरिक्ष में बेटा-बेटी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा देश बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है। और जो देश हमसे आगे हैं मैं अपने देश को उनसे आगे ले जाना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि 2022 तक देश का कोई भी बेटी-बेटा अंतरिक्ष पर पहुंच सकता है। साल 2022 से पहले ही, भारतीय वैज्ञानिकों ने मानवसहित गगनयान लेकर अंतरिक्ष में तिरंगे के साथ जाने का संकल्प लिया है, यदि संभव हुआ तो भारत इस उपलब्धि को हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश होगा। आजादी के 75 साल पूरे होने पर, वर्ष 2022 तक भारत का बेटा या बेटी अंतरिक्ष में जाएगी।

किसानों की आय दोगुनी

उन्होंने कहा कि हमारा यह भी लक्ष्य है कि 2022 तक किसानों की आय डबल कर दी जाए। उन्होंने कहा कि गांव-गांव में बिजली पहुंची हैं, किसान ट्रैक्टर खरीद रहे हैं। आज किसान गर्व महसूस कर रहा है। आज देश में रिकॉर्ड मोबाइल बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं आज बड़े आदर और नम्रता के साथ कहना चाहूंगा कि वर्ष 2014 में सवा सौ करोड़ देशवासी केवल सरकार बना कर रुके नहीं थे, वो देश बनाने के लिए जुटे भी थे, जुटे भी हैं और जुटे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि आज का सूर्योदय नई चेतना दे रहा है। देश आज आत्मविश्वास से भरा हुआ है।

पाकिस्तान हल

जम्मू-कश्मीर के लिए अटल जी का आह्वान था- इंसानियत, कश्मीरियत, जम्हूरियत। मैंने भी कहा है, जम्मू- कश्मीर की हर समस्या का समाधान गले लगाकर ही किया जा सकता है। हमारी सरकार जम्मू-कश्मीर के सभी क्षेत्रों और सभी वर्गों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। 

विपक्ष पर वार

पिछले चार साल में बहुत काम हुए हैं। वर्ष 2013 की रफ्तार से चलते तो गांवों तक बिजली पहुंचाने में एक-दो दशक और लग जाते, उसी रफ्तार से काम करते तो गरीबों को एलपीजी चूल्हा उपलब्ध कराने में 100 साल भी कम पड़ जाते। हमने भाई-भतीजा वाद को खत्म किया, यह तकनीकी के माध्यम से व्यवस्था को पारदर्शी बनाने के कारण संभव हुआ। छह करोड़ फर्जी लोगों के नाम पर विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाया जा रहा था, इसे रोका गया। इससे देश को 90,000 करोड़ रुपये की बचत हुई।

अर्थ व्यवस्था

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत दुनिया की छठी बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। हम चाहते हैं कि दुनिया में भारत की न केवल अपनी साख हो बल्कि उसकी धमक भी हो 

देश हित

नयी ऊर्जा और परिश्रम की पराकाष्ठा के साथ देश नयी ऊंचाईयां हासिल कर रहा है। संसद का मानसून सत्र पूरी तरह से सामाजिक न्याय को समर्पित था, जहां दलित, शोषित, पीड़ित वंचित वर्ग के हितों पर संवेदनशीलता का परिचय दिया गया और ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी विधेयक पारित हुआ। भारी वर्षा के कारण जिन लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ा, उनके साथ पूरा देश खडा़ है। 

गरीबी पर क्या बोले पीएम मोदी

गरीबों को न्याय मिले, जन जन को आगे बढ़ने का मौका मिले, मध्यम वर्ग को आगे बढ़ने में कोई समस्या न आये, यह हमारा प्रयास है। वर्ष 2014 से अब तक मैं अनुभव कर रहा हूं कि सवा सौ करोड़ देशवासी सिर्फ सरकार बनाकर रुके नहीं, बल्कि वे देश बनाने में जुटे हैं।

कश्मीर मुद्दे पर बोले पीएम

मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर कहा कि हम गोली और गाली के रास्ते पर नहीं पर गले लगाकर आगे बढ़ना चाहते हैं। आने वाले कुछ ही महीनों में कश्मीर में गांव के लोगों को अपना हक जताने का अवसर मिलेगा और पंचायत चुनाव होंगे।

करदाताओं का योगदान

हमारी सरकार गरीबों के लिए काम कर रही है। पहले 25 का गेहूं 2 रुपये में, 30 का चावल 3 रुपये में दिया जाता था। लेकिन गरीबों को मिलने वाला यह हक पहले छीन लिया जाता था। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में ईमानदारी से टैक्स चुकाने वाले करदाताओं ने विकास में अहम योगदान दिया। जब एक कर दाता टैक्स जमा करता है तो तीन परिवार खाना खाते हैं। जीएसटी आने के बाद 70 लाख करदाताओं का आंकड़ा एक करोड़ पर पहुंच गया। सभी सरकारी योजनाओं का श्रेय इन्हीं करदाताओं को जाता है।

10 करोड़ परिवारों को लाभ

पीएम मोदी ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि पिछले दो वर्ष में पांच करोड़ गरीब गरीबी की रेखा से बाहर आए। हमने अपने चार सालों में देश के गरीबों को सशक्त बनाने पर बल दिया है। प्रधानमंत्री जन आरोगय अभियान के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को बेहतर इलाज मिलेगा। हमारी सरकार की योजना है कि हर परिवार को हर साल पांच लाख तक का हेल्थ इंश्योरेंस दिया जाए।  

विपक्ष पर हमला

पीएम मोदी ने कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि 2014 से पहले भी वही सबकुछ था जो अब है। जमीन वही है आसमान वही है लेकिन अब देश बदल रहा है। पहले फाइलें लटकती थीं, लेकिन हमने फैसला लिया कि किसानों को एमएसपी का लाभ मिलना चाहिए। अब लोग गर्व महसूस कर रहे हैं। देश तेजी से आगे बढ़ रहा है।