State News- राज्य

दादा चाहते थे पहलवान तो चाचा हॉकी प्लेयर, गेंद टर्न की कला से बना क्रिकेटर

फरीदाबाद। दादा करण सिंह तेवतिया पहलवान थे वे अपने पोते को भी अपने जैसा बनाना चाहते थे, चाचा नेशनल हॉकी खिलाड़ी रहे हैं, वे चाहते थे की भतीजा उनकी तरह हॉकी खेले, लेकिन टेनिस गेंद से टर्न कराने की कला ने उसे क्रिकेटर बना दिया। ये कहानी है किंग्स इलेवन पंजाब के 23 वर्षीय खिलाड़ी राहुल तेवतिया की। जो फरीदाबाद की सीही गांव के रहने वाले हैं। आगे पढ़िए क्या है राहुल तेवतिया की पूरी कहानी…
दादा चाहते थे पहलवान तो चाचा हॉकी प्लेयर, गेंद टर्न की कला से बना क्रिकेटर
– राहुल तेवतिया के दादा करण सिंह तेवतिया खुद एक पहलवान रहे वे चाहते थे कि पोता पहलवान बने। उनका गांव पहलवानों का गढ़ है। वहीं चाचा धर्मबीर नेशनल हॉकी खिलाड़ी रहे हैं। वे हॉकी प्लेयर बनाने के इच्छुक थे। लेकिन चाचा धर्मबीर के दोस्त मुकेश सारन की नजर राहुल पर टेनिस गेंद को टर्न कराते हुए पड़ी तो क्रिकेट की तरफ मोड़ दिया। पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी विजय यादव ने इनके खेल को संवारा।
फिजिकल फिटनेस पर रखा जोर
– चाचा धर्मबीर बताते हैं कि राहुल की फिजिकल फिटनेस पर उनका हमेशा जोर रहा है। हॉकी खिलाड़ी बनाना चाहते थे। इसके लिए फिजिकल फिटनेस पर ध्यान दिया हॉकी में ले जाने की कोशिश की लेकिन मेरे दोस्त की वजह से यह क्रिकेटर बन गया।
 
सहवाग, द्रविड और शेनवॉर्न आदर्श
– राहुल तेवतिया सहवाग, द्रविड़ और शेनवॉर्न को अपना आदर्श मानता है। लेग स्पिन गेंदबाजी के अलावा विस्फोटक बल्लेबाजी करना राहुल को बहुत पसंद है। राहुल लेफ्ट आर्म बल्लेबाज और राइट आर्म लेग स्पिन गेंदबाज हैं।
 
हॉकी ने मजबूत की बल्लेबाजी
– राहुल तेवतिया से हुई बातचीत में उसने बताया कि उसकी बल्लेबाजी को मजबूत करने का कार्य चाचा की हॉकी ने किया है। हॉकी में गेंद को एक सटीक जगह पर हिट कर खेला जाता है जिसका फायदा ही इस बार विजय हजारे ट्रॉफी में और अब आईपीएल के पहले मैच में भी मिला है।

ये भी पढ़े: बिना ब्याही रेप पीड़िता बनी मां, परिजनों ने बच्चे और लड़की को अपनाने से किया मना

– उन्होंने बताया कि राजस्थान रॉयल्स की तरफ से दो मैच खेले लेकिन बल्लेबाजी के मौके बिल्कुल नहींं मिल सके। गेंदबाजी में भी वह खास नही कर सके।
– तेवतिया का मानना है कि अगर उन्हें सही मौका मिले तो वह आगे इससे भी अच्छा प्रदर्शन करने से नहीं चूकेंगे।

 
क्रिकेट में राहुल का प्रदर्शन
– राहुल अभी तक 5 फर्स्ट क्लॉस, 6 लिस्ट ए और 10 टी-20 मैच खेल चुके हैं। 2013 में फर्स्ट क्लॉस में, 2014 में टी-20 में और 2017 में लिस्ट ए की अलग-अलग शुरूआत की।
– 5 फर्स्ट क्लॉस में मैचों में राहुल ने 8 विकेट, लिस्ट ए के 6 मैचों में 9 विकेट और टी-20 के 10 मैचों में 7 विकेट लिए हैं।

Unique Visitors

13,769,277
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया Dastak Times के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related Articles

Back to top button