स्तम्भ

दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : आयुर्वेद आयु का विज्ञान है और चिकित्सा विज्ञान रोगी को स्वस्थ करने का विज्ञान है। आयु विज्ञान का सम्बंध दीर्घायु रहने की जानकारी से ...
Comments Off on कोरोना वायरस से विश्व मानवता भयग्रस्त, राष्ट्र व राज्य डरे हुए हैं, स्वस्थ आचरण जरूरी
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : भोजन सभी जीवों की प्राथमिक आवश्यकता है। भारतीय ज्ञान परंपरा में शरीर की प्राथमिक या ऊपरी परत को अन्नमय कोष कहा गया है। मनुष्य ...
Comments Off on अन्न से होता है मानव शरीर का निर्माण, प्राचीन है दूध—भात और मालपूये का वर्णन
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : मन अप्रत्यक्ष है। दिखाई नहीं पड़ता। यह मनुष्य के व्यक्तित्व की अंतः शक्ति है। मन के अध्ययन, विवेचन व विश्लेषण पर विश्वव्यापी मनोविज्ञान विकसित ...
Comments Off on मनुष्य के व्यक्तित्व की अंतःशक्ति है ‘मन’
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : आदिमकाल में राजा या राज्य व्यवस्था नहीं थी। राज्य संस्था का क्रमिक विकास हुआ है। अथर्ववेद में राज्य के जन्म और विकास का सुन्दर ...
Comments Off on अथर्ववेद में राज्य के जन्म और विकास का सुन्दर वर्णन
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू स्तम्भ : युवाओं के लिए मर्यादा पुरूषोत्तम अयोध्या के राजा राम से बढ़कर कोई आदर्श नहीं हो सकता। राम ने अपने जीवन का स्वर्णिम समय ‘तरूणाई’ ...
Comments Off on युवाओं के आदर्श ‘राम’
दस्तक-विशेष स्तम्भ

स्तम्भ : नारी ही नारायणी है। सृष्टि की आद्य शक्ति है,पालकर्ता व संहारकर्ता के रूप में भी जानी जाती है। इस आद्यशक्ति को हम लक्ष्मी, सरस्वती और महाकाली ...
Comments Off on अंतिम साँसों तक अंग्रेजों से लड़ने वाली वीरांगना अवंतीबाई
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू सपा,  बसपा के 15 साल पर भारी योगी के तीन साल उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अपने कार्यकाल के सफलतापूर्वक तीन साल पूरे कर रही है। ...
Comments Off on योगी के तीन साल, बेमिसाल
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू स्तम्भ : विदेशी आक्रान्ताओं ने जब से भारत की धरती पर पैर रखा तब से हिन्दुओं का प्रतिकार संग्राम अविरत और अखण्ड चलता रहा। महाराजा दाहिर ...
Comments Off on अपराजेय योद्धा छत्रपति शिवाजी
अन्तर्राष्ट्रीय दस्तक-विशेष स्तम्भ

के. विक्रम राव लखनऊ: अटलांटिक सागर के पूर्व तथा पश्चिम में यौन संबंधों का पैमाना जमीन आसमान के फर्क वाला है| गौर कीजिये आज ही सुर्खी बनी है ...
Comments Off on निर्बाध यौनकर्म कितना मान्य ?
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू आखिर कब मिलेगी भाषाई दासतां से मुक्ति स्तम्भ : देश को अंग्रेजों से आजादी मिलने के बाद शिक्षा के क्षेत्र में निश्चित ही भारत ने बहुत ...
Comments Off on मातृभाषा में होनी चाहिए शिक्षा