अपराधियों के विरूद्व जीरो टालरेंस के तहत एसटीएफ ने बीते वर्ष गिरफ्तार किये 885 अपराधी

- in BREAKING NEWS, TOP NEWS
  • प्रभावी सर्विलांस के फलस्वरूप हत्या, लूट जैसे 74 से अधिक जघन्य अपराधों पर लगायी गयी रोक

  • 14 फर्जी शिक्षकों सहित भर्ती परीक्षाओं से जुड़े, 166 अभियुक्तों की भी गिरफ्तारी

लखनऊ : मुख्यमंत्री की अपराधियों के विरूद्व जीरों टालरेंस की नीति के अनुपालन के क्रम में स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा संगठित अपराधियों, माफियाओं, अपराधी गिरोहों, साइबर अपराधियों व अन्य अपराधियों के विरुद्ध अभियान चलाकर प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित करायी जा रही है। स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा बीते वर्ष 2019 में किये गये प्रभावी सर्विलांस के फलस्वरूप 74 से अधिक हत्या, लूट जैसे जघन्य अपराधों को भी घटित होने से पहले रोकने में उल्लेखनीय सफलता हासिल की गयी है। साथ ही इनामी अपराधियों सहित 885 अपराधियों की भी गिरफ्तारी हुई है। अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुए आज यहां बताया कि स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा कुल गिरफ्तार 885 अपराधियों में 587 संगठित अपराधकर्ता एवं 9 साइबर अपराधी शामिल हैं। उक्त पकड़े गये अपराधियों में लगभग 11 दर्जन से अधिक अपराधी इनामी हैं।
स्पेशल टास्क फोर्स के साथ बीते वर्ष अपराधियों के साथ हुई मुठभेड़ के दौरान 5 बड़े इनामी अपराधियों की भी मृत्यु हुई है। मारे गये ईनामी अपराधियों में एक लाख 25 हजार रुपये का इनामी अपराधी आदेश बालियान, एक-एक लाख रूपये के ईनामी अपराधी तौकीर व मेहरबान तथा 50-50 हजार रूपये के इनामी अपराधी बब्लू उर्फ पतला छैमार व सचिन पाण्डे के नाम शामिल हैं। श्री अवस्थी ने बताया कि फर्जीवाड़ा करने वाले अपराधियों पर भी एसटीएफ ने शिकंजा कसते हुए 14 फर्जी शिक्षकों को भी गिरफ्तार किया है। साथ ही भर्ती परीक्षाओं से जुड़े 166 अभियुक्तों की भी गिरफ्तारी हुई है, जिनमें नकल कराने वाले गैंग के सरगना व साल्वर भी शामिल हैं। बोर्ड परीक्षा 2019 के दौरान पांच गिरोहों से जुड़़े 40 अभियुक्तों की भी गिरफ्तारी की गयी है। स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा आईपीएल 2019 से सम्बन्धित आठ अभियुक्तों को गिरफ्तार कर 30—53 लाख रुपये की बरामदगी की गई है। इसके अलावा अवैध भारतीय जाली मुद्रा के कारोबार में लगे 14 तस्करों को पकड़कर 4.09 लाख रूपये की नकली भारतीय मुद्रा भी बरामद की गई है।