साहित्य

सलिल सरोज को स्मृतिशेष डॉ. अन्नपूर्णा भदौरिया साहित्य सम्मान 2020 से नवाजा गया

नई दिल्ली: राष्ट्रीय मासिक पत्रिका आदित्य संस्कृति ने श्रेष्ठ साहित्य सृजन के लिए देश के विभिन्न प्रांतों के 100 साहित्यकारों…

Read More »

कवि केदारनाथ अग्रवाल की पुण्यतिथि पर स्पेशल

कवि केदारनाथ अग्रवाल पुण्यतिथि पर विशेष  22 जून, 2021 (दस्तक टाइम्स) : दस्तक साहित्य की ओर से बहुचर्चित कवि केदारनाथ…

Read More »

देवानंद के प्रेम पुजारी से अभिनय की शुरुआत करने वाले अमरीश पुरी की अमर गाथा

स्मृतियों के झरोखे से : जन्मदिन पर विशेष विमल अनुराग स्तम्भ : साल था 1970, देवानंद कई हिंदी फ़िल्मों को…

Read More »

मनवा गाए मल्हार…

स्वर : इंदुबाला मूलतः गोरखपुर की निवासिनी। शिक्षिका (नोएडा में) कविता लेखन,संगीत एवं साहित्य में अभिरुचि। लोकगायन से खास जुड़ाव।…

Read More »

क्या मैं वही बनारस हूं?

डा. ज्योति सिंह कविता कुछ नया कुछ पुराना हालातों का मारा, क्या मैं वही बनारस हूं? कई दिनों से चुपचाप,…

Read More »

उमा शर्मा के शरीर और आत्मा में बस नृत्य ही नृत्य

क्लासिकल गायकी अदायगी का जगमगाता कोहिनूर हैं उमा शर्मा मशहूर कत्थक नृत्यांगना डॉक्टर उमा शर्मा से सूर्यकांत शर्मा की खास…

Read More »

जिन्दगी अनवरत चलती है

कविता जिन्दगी अनवरत चलती है, ये कब कहाँ किसी के लिए रूकती है। वो दोस्त जिन्हें सुनाये थे किस्से, हर…

Read More »

कबीर की कालजयी वाणी का अक्षुण्य महात्म्य

स्वर : डॉ. सुजीत कुमार सिंह कबीर वाणी साधो ये मुरदों का गाँव पीर मरे, पैगम्बर मरि हैं, मरि हैं…

Read More »

साधना और अनुभव की चासनी से सराबोर-‘साथ गुनगुनाएंगे’

पुस्तक समीक्षा जयशंकर प्रसाद द्विवेदी संपादक भोजपुरी साहित्य सरिता समीक्षा : जैसा कि हम सभी को यह ज्ञात है कि…

Read More »

“ऊंची अटरियों की सिसकियां”

पुस्तक-समीक्षा श्री के. डी. सिंह साहित्यकार एवं व्यंग्यकार अलीगढ़ समीक्षा : बिम्मी कुंवर पेशेवर लेखिका नहीं हैं, न ही उनका…

Read More »

अपने-अपने स्नान

शिप्रा चतुर्वेदी कहानी : एक ही माता-पिता की जुड़वां बेटियाँ बड़ी होकर अलग-अलग देशों में बस गई थीं। वैचारिक भिन्नता…

Read More »

कंठ में जीने-जागने वाले गीतों का संग्रह है “इसलिए”

प्रो. वशिष्ठ अनूप हिन्दी विभाग, बीएचयू वाराणसी, मो. – 9415895812 वशिष्ठ अनूप का एक गीत ‘इसलिए ‘ जिसका कि रचनाकाल…

Read More »

यमराज को क्यों लेना पड़ा विदुर रुप में अवतार

मैत्रेय जी ने विदुर से कहा, ‘‘मांडव्य ऋषि के शाप के कारण ही तुम यमराज से दासी पुत्र बने। कथा…

Read More »

कहानी : राजा की तीन सीखें

बहुत समय पहले की बात है, सुदूर दक्षिण में किसी प्रतापी राजा का राज्य था। राजा के तीन पुत्र थे,…

Read More »

राजा विक्रमादित्य की कुल देवी हरसिद्धि माता की कथा

चक्र से माँ सती के शव के कई टुकड़े हो गए। उनमें से १३वा टुकड़ा माँ सती की कोहनी के…

Read More »

आज का प्रेरक प्रसंग : शीशे का कमरा

एक व्यक्ति ने अपने गुरु से पूछा- मेरे कर्मचारी, मेरी पत्नी, मेरे बच्चे और सभी लोग मतलबी है। कोई भी…

Read More »
Back to top button