Breaking News

स्तम्भ

दस्तक-विशेष स्तम्भ

-प्रो.संजय द्विवेदी स्तम्भ : हिंदी पत्रकारिता की गर्भनाल आजादी के आंदोलन से जुड़ी है तो इसका नेतृत्व हिंदी साहित्य के निर्माताओं के हाथ में रहा है। एक तरफ ...
Comments Off on हिंदी पत्रकारिता : विचारों की सिकुड़ती जगह, राष्ट्रीयता का अभाव
दस्तक-विशेष स्तम्भ

नौंवी सीट के लिए बीजेपी को विपक्ष में बिखराव का सहारा संजय सक्सेना लखनऊ : चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश में 25 नवंबर को खाली हो रही राज्यसभा ...
Comments Off on उत्तर प्रदेश राज्यसभा चुनाव : भाजपा की 8 सीटों पर जीत तय
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : कोरोना महामारी से विश्व सामाजिक व्यवस्था में उथल-पुथल है। भारत भी अछूता नहीं है। यहां की सामाजिक व्यवस्था में भी अनेक द्वन्द्व हैं। यह ...
Comments Off on वेबसीरीज जैसे माध्यमों से सभ्य और अश्लील का समाप्त हो रहा फर्क
दस्तक-विशेष स्तम्भ

नई दिल्ली : ”बस्तर हमेशा कहानियों का द्वीप रहा है। यहां के लोक जीवन के किस्से पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हैं।” यह विचार भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) ...
Comments Off on कहानियों का द्वीप है बस्तर : प्रो. द्विवेदी
दस्तक-विशेष स्तम्भ

प्रो. संजय द्विवेदी शुरू कीजिए डिजिटल सत्याग्रह : प्रो. द्विवेदी सोशल मीडिया में सुरक्षा आपके हाथ ही : विवेक अग्रवाल रायपुर : अगर आप इस डिजिटल युग में ...
Comments Off on अग्रसेन महाविद्यालय में डिजिटल मीडिया पर हुआ वेबिनार
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : प्राण से जीवन है। प्राण नहीं तो जीवन नहीं। शरीर में प्राण के संचरण से ही सभी कर्म सम्पन्न होते हैं। तैत्तिरीयोपनिषद में प्राण ...
Comments Off on पृथ्वी में अन्न प्रतिष्ठित और अन्न में पृथ्वी, पूर्वजों ने की प्राण की तरह अन्न की प्रशंसा
अद्धयात्म दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : प्राण से जीवन है। प्राण से प्राणी है। प्राण दिखाई नहीं पड़ते। इसके बावजूद प्राण का अस्तित्व है और प्राण के कारण ही जीव ...
Comments Off on प्रकाश का पर्याय, सहस्त्रों किरणों वाला सूर्य संसार का प्राण है
दस्तक-विशेष स्तम्भ

(पं. दीनदयाल उपाध्याय जयंती विशेष – 25 सितम्बर) लोकेन्द्र सिंह स्तम्भ : पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजनीतिज्ञ, चिंतक और विचारक के साथ ही कुशल संचारक और पत्रकार भी थे। ...
Comments Off on पत्रकारिता में शुचिता, नैतिकता और आदर्श के हामी थे पंडित दीनदयाल जी
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : विश्व की सभी सभ्यताओं में पुस्तकों का आदर किया जाता है। पुस्तकों में वर्णित जानकारियाॅं लेखक के कौशल से सार्वजनिक होती हैं। शब्द स्वयं ...
Comments Off on शब्द स्वयं में सार्वजनिक सम्पदा
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : क्या ब्राह्मण जाति हैं? पहले वे समूहवाची वर्ण-वर्ग थे। साहित्य में ज्यादा यथार्थ में नगण्य। फिर ब्राह्मण पिता के पुत्र भी ब्राह्मण होने लगे। ...
Comments Off on ब्राह्मण होने के लिए आंतरिक ऊर्जा को बनाना होता है उर्ध्वगामी