दस्तक-विशेष

कहानी -मेंढक और सांप

लेखक- जंग हिन्दुस्तानी पहाड़ से आने वाली नदी में तेज रफ्तार से पानी बह रहा था। इस पानी में एक…

Read More »

मरहबा ईरानी खातून ! पाइंदाबाद !!

के. विक्रम राव स्तंभ: एक कन्नडभाषी युवती है उडुपी (कर्नाटक) की। नाम है 21-वर्षीया साना अहमद। वह हिजाब पहनना चाहती…

Read More »

‘मातृभाषा’ की जगह नहीं ले सकती कोई भी भाषा: प्रो. द्विवेदी

गुवाहाटी में पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में बोले आईआईएमसी के महानिदेशक गुवाहाटी। “कोई भी भाषा किसी व्यक्ति की मातृभाषा की जगह…

Read More »

चित भी, पट भी, सभी राहुल की !!

के. विक्रम राव स्तंभ: दशकों बाद हो रहे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव रूचिकर होगा। वर्ना विगत में हर बार…

Read More »

चीन और संघ ने कहा: इस्लामिस्टों देशभक्त बनों !!

के. विक्रम राव स्तंभ: कम्युनिस्ट चीन और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने अपने राष्ट्रों के मुसलमानों से कहा कि वे…

Read More »

केरल में शीर्ष पदों पर हो रहा टकराव राज्यपाल और मुख्य मंत्री आमने सामने..

कम्युनिस्ट-शासित केरल राज्य में राज्यपाल खान मोहम्मद आरिफ खान के विरूद्ध अभियान चल रहा है। वजह क्या है ? माकपा…

Read More »

वक्त के साथ बदलते मीडिया से साक्षात्कार

डॉ. विनीत उत्पल पुस्तक समीक्षा पुस्तक : जो कहूंगा सच कहूंगा – प्रो. संजय द्विवेदी से संवाद संपादक : डॉ.…

Read More »

राज्यपाल बनाम मुख्यमंत्री ! केरल में शीर्ष पदों पर टकराव !!

के. विक्रम राव स्तंभ: कम्युनिस्ट-शासित केरल राज्य में राज्यपाल खान मोहम्मद आरिफ खान के विरूद्ध अभियान चल रहा है। वजह…

Read More »

कहानी -डॉल्फिन और मेंढक

लेखक-जंग हिन्दुस्तानी बरसात का महीना जैसे-जैसे खत्म होता जा रहा था वैसे वैसे इस पहाड़ी नदी का पानी भी साफ…

Read More »

कहानी-हाथियों का परिवार

लेखक-जंग हिन्दुस्तानी हाथियों का एक झुंड नेपाल के पहाड़ों से नीचे उतर कर उत्तर भारत में तराई के जंगल में…

Read More »

राजभाषा को जीवन की भी भाषा बनाएं: प्रो. संजय द्विवेदी

द्वितीय राजभाषा सम्मेलन, सूरत के प्रसंग पर विशेष राजभाषा को जीवन की भी भाषा बनाएं: प्रो. संजय द्विवेदी नई दिल्ली:…

Read More »

शाहीराज की मिटती निशानियाँ !

के. विक्रम राव स्तंभ: क्या इतिफाक है ? ठीक जिस वक्त (8 सितम्बर 2022) स्काटलैण्ड के बालमोरल ग्रीष्मकालीन दुर्ग में…

Read More »

सीएम को इतनी कुढ़न महिला मंत्री से ?

के. विक्रम राव स्तंभ: मार्क्सवादी कम्युनिस्टों की फितरत है कि कोई भी नेक काम, पार्टी हित में ही क्यों न…

Read More »

कहानी – जंगल का कानून

लेखक- जंग हिन्दुस्तानी जंगल के बीचोबीच से होकर बहने वाली इस नदी का पानी जितना साफ और मीठा है उतना…

Read More »

‘‘विक्रांत‘‘ से नौसेना की हुंकार दमदार हुयी !

के. विक्रम राव स्तंभ: अन्ततः ब्रिटिश गुलामी का प्रतीक ‘‘संत जार्जवाला क्रास‘‘ इतिहास के गर्त में दफन हो गया। इंग्लैण्ड…

Read More »

हेकड़ी तजे पाकिस्तान ! इल्तिजा करनी पड़ेगी !!

के. विक्रम राव स्तंभ: कैसा अड़ियलपना है ? विडंबना है ? बाढ़-पीड़ित लाहौर के रमजान बाजार में टमाटर छह सौ…

Read More »
Back to top button