आखिर दिल्ली में ही क्यों सरेंडर करते हैं उत्तर प्रदेश, हरियाणा और बिहार के बाहुबली बदमाश

- in BREAKING NEWS, TOP NEWS, राज्य

नई दिल्ली : बिहार के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के दिल्ली के साकेत कोर्ट में सरेंडर करने के बाद एक बार फिर ये सवाल उठ रहा है कि आखिर क्यों यूपी और बिहार के बाहुबली विधायक, सांसद और बदमाश दिल्ली की अदालतों में ही सरेंडर करना मुनासिब समझते हैं। बिहार पुलिस मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह को गिरफ्तार करने के लिए सरगर्मी से तलाश करती रह गई, उधर, वह दिल्ली के साकेत कोर्ट पहुंच गए और वहां सरेंडर कर दिया। बिहार के कोर्ट में अनंत सिंह के सरेंडर की अफवाह गुरुवार को ही सामने आयी थी। विधायक के सरेंडर करने को लेकर यहां बिहार पुलिस अलर्ट रही, पुलिस उनको गिरफ्तार करने के लिए पटना कोर्ट के बाहर नजर रख रही थी, लेकिन वे दिल्ली के साकेत कोर्ट सरेंडर करने पहुंच गए। अनंत सिंह ने बिहार के किसी कोर्ट को छोड़कर दिल्ली के साकेत कोर्ट को चुना और शुक्रवार की दोपहर बाद वहां पहुंचकर सरेंडर कर दिया। अब उसके बाद उन्हें न्यायिक हिरासत में लिया जाएगा। अनंत सिंह बीते 17 अगस्त से ही फरार चल रहे थे। विधायक के पैतृक गांव नदवां में एके—47 और 2 हैंड ग्रेनेड मिलने के बाद यूएपीए एक्ट के तहत बाढ़ थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी। इस मामले में पुलिस लगातार उन्हें तलाश रही थी, लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी थी। अनंत सिंह ने फरारी के दौरान ही तीन वीडियो जारी किया था, जिसमें उन्होंने न्यायालय पर भरोसा जताते हुए कहा था कि वो सरेंडर करेंगे। उन्होंने कहा था कि उन्हें बिहार पुलिस पर भरोसा नहीं है। अनंत सिंह ने पुलिस पर आरोप लगाया था कि उन्हें साजिश के तहत फंसाने का काम कर रही है। उन्होंने पुलिस के अलावा कुछ राजनेताओं पर भी साजिश कर फंसाने का आरोप लगाया था।

पुलिस ने बाहुबली विधायक अनंत सिंह के पैतृक गांव नदवां स्थित घर से छापेमारी में एके-47 के साथ 2 हैंड ग्रेनेड की बरामदगी की थी। अवैध हथियार की बरामदगी के बाद विधायक और केयर टेकर के खिलाफ यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया गया था। केस दर्ज होने के बाद पुलिस देर रात विधायक अनंत सिंह को गिरफ्तार करने बड़ी संख्या में उनके पटना स्थित सरकारी आवास पहुंची थी। तब तक विधायक एक माल रोड स्थित सरकारी आवास छोड़ फरार हो चुके थे। पुलिस की कई टीम विधायक को खोजने के लिए खाक छान रही थी और अनंत सिंह ने अब तक पुलिस को चुनौती देते हुए एक-एक कर तीन वीडियों जारी किया था। इस वीडियो में मोकामा विधायक ने पुलिस के सामने सरेंडर करने से साफ इनकार कर दिया था। अंतिम वीडियो में बाहुबली विधायक ने स्पष्ट किया कि पुलिस के बजाय कोर्ट में सरेंडर करेंगे।