करियर के मामले में टीचिंग है भारतीयों की पहली पसंद : सर्वे

लंदन : वैश्विक स्‍तर पर हुए एक अध्‍ययन में सामने आया है कि आज भी करियर के विकल्‍प के तौर पर भारतीयों की पहली पसंद टीचिंग है। ब्रिटेन के वर्के फाउंडेशन नाम की एक संस्‍था ने यह अध्‍ययन कराया है। ‘Global Teacher Status Index (GTSI) 2018 अध्‍ययन के परिणाम को गुरुवार को जारी किया गया है। यह अध्‍ययन यह जानने के लिए किया गया है कि सोसायटी में टीचिंग के करियर को लोग किस प्रकार से देखते हैं? इसे 35 देश के लोगों से बातचीत करके तय किया गया है। भारत में करियर के तौर पर टीचिंग के क्रेज को लेकर यह बात सामने आई है। इस अध्‍ययन के माध्‍यम से पता लगा है कि हमारे देश के आधे से भी ज्‍यादा लोग अब भी टीचिंग के करियर को अपने और अपने बच्‍चों के लिए सबसे बेहतर मानते हैं। करीब 54 फीसदी भारतीयों ने तमाम प्रफेशनों के बावजूद आज भी टीचिंग को ही सबसे अच्‍छा करियर माना है। यह आंकड़ा सभी 35 देशों में सबसे अधिक है। टीचिंग को पसंद करने के मामले में भारतीयों के बाद चीन के लोगों का नंबर आता है। 50 फीसदी चीनियों को भी टीचर बनना पसंद है। वहीं इस मामले में ब्रिटेन भारतीयों से काफी पीछे हैं। यहां केवल 23 फीसदी लोग ही टीचिंग के प्रफेशन को पसंद करते हैं। जबकि रूस के लोगों में मात्र 6 फीसदी आबादी ऐसी है जो टीचिंग को करियर के रूप में चुनना चाहती है। अब देश में महिलाएं पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। कई क्षेत्रों में वे पुरुषों से भी आगे हैं।

एजुकेशन में कुछ क्षेत्र हैं, जिसमें डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट की पढ़ाई कर महिलाएं आसानी से जॉब पा सकती हैं। अगर आप पाक कला में निपुण हैं तो यह कोर्स आपके लिए बेहतर साबित हो सकता हैं। होम साइंस से ग्रैजुएट होने के बाद आपको शहर के किसी भी बड़े होटेल में ट्रेनिंग लेवल पर सेफ़ का काम मिल सकता है। यह कोर्स पुरी तरह से प्रैक्टिकल अप्रोच की डिमांड करता है। सेफ़ की जॉब से आप लाखों की कमाई कर सकती हैं। फैशन डिजाइनिंग एक ऐसा क्षेत्र है जहां महिलाओं की मांग हमेशा से रही है। ऐसा माना जाता है कि कपड़ों और फैशन की समझ महिलाओं में पुरुषों से ज्यादा होती है। यही कारण है कि महिलाएं ही वर्षों से इस क्षेत्र में राज कर रही हैं। अगर आपकी भी रुचि स्टिचिंग और फैशन में है तो यह क्षेत्र आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। नए फैशन के साथ अनुभव और क्रिएटिव नेचर आपको सफलता दिला सकते हैं। यह एकमात्र ऐसा क्षेत्र है, जिसकी मांग पहले भी थी और भविष्य में भी बनी रहेगी। अध्यापन के क्षेत्र में महिलाएं अपना करियर आसानी से बना सकती हैं। इस क्षेत्र की खासियत यह है कि सुरक्षित होने के साथ-साथ इसमें पैसे भी काफी अच्छे मिलते हैं। इस क्षेत्र के लिए आपकी किसी एक विषय में अच्छी पकड़ होनी चाहिए ताकि बीएड के दौरान आप उस विषय में विशेषज्ञता हासिल कर टीचर बन सकें। एविएशन में महिलाओं की डिमांड काफी ज्यादा है। शहर के विभिन्न एविएशन संस्थानों में एयर होस्टेस की ट्रेनिंग दी जाती है। ये संस्थाएं महिलाओं को प्रशिक्षित कर उन्हें विभिन्न एयरलाइंस में इंटरव्यू के लिए भेजती हैं। ट्रेनिंग के दौरान महिलाओं के बेसिक ऐटीकेट, लैंग्वेज और हाव-भाव पर ध्यान दिया जाता है।


इस दौर में मीडिया में महिलाओं की अच्छी खासी डिमांड देखने को मिलती है। मॉडलिंग और ऐंकरिंग के जरिए आप शोहरत और दौलत, दोनों कमा सकती है। कई कॉलेज और इंस्टिट्यूट में मॉडलिंग और ऐंकरिंग के शॉर्ट टर्म कोर्स उपलब्ध है, जहां से आप कोर्स कर जॉब पा सकती हैं। इस इंडेक्‍स के माध्‍यम से यह भी जानकारी मिली है कि छात्रों की परफॉर्मेंस टीचर के स्‍टेटस पर काफी हद तक निर्भर करती है। ऑर्गनाइजेशन फॉर इकॉनमिक कोऑपरेशन एंड डिवेलपमेंट प्रोग्राम फॉर इंटरनैशनल स्‍टूडेंट असेस्‍मेंट ने मिलकर यह परिणाम निकाले हैं। Varkey Foundation के फाउंडर सनी वार्के ने बताया, जब हमने 5 साल पहले इस प्रकार का अध्‍ययन किया था तो परिणाम काफी गंभीर थे। जिनसे यह संकेत मिला था पूरे विश्‍व में अब टीचर्स का स्‍तर गिर रहा है। तब हमें लगा कि हमें ऐसे टीचर्स तैयार करने चाहिए जो अपने शिष्‍यों के भविष्‍य को बेहतर बनाने में उनकी मदद कर सकें। इस अध्‍ययन में 16 से 64 साल के लोगों को शामिल किया गया था और करीब 5500 टीचर्स से भी बात की गई है।