खेत में मिला खजाना


कानपुर देहात : डेरापुर के एक गांव में मंदिर के पास खेतों में खजाना निकला है, इसकी हकीकत तब सामने आई जब खजाने में मिले सिक्के की फोटो वायरल हो गई। खेत में खजाना मिलने की जानकारी हुई तो ग्रामीणों में भी हलचल मच गई। पुलिस ने अब खेत मालिक और उसके बटाईदार की तलाश शुरू की है। कहा जा रहा है कि कुछ सिक्के किसी सुनार को भी बेचे गए हैं। पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है। डेरापुर के बड़ागांव भिक्खी में यहां शोधारानी देवी मंदिर के पास उमरी बुजुर्ग निवासी सत्यनारायण का खेत है। उन्होंने गांव के गुड्डू कुशवाहा को बटाई पर खेत दिए हैं। रविवार को गुड्डू लाही की बोवाई के लिए खेत जोतने गया था। खेत में सोने जैसी धातु के प्राचीन सिक्के निकले तो गुड्डू ने सत्यनारायण को जानकारी दी।

खेत पहुंचे सत्यनारायण पूरा खजाना लेकर गायब हो गए। इसी बीच खेत पहुंचे कुछ युवकों ने मोबाइल पर प्राचीन सिक्के की फोटो खींच ली। खेत मालिक और बटाईदार के अचानक गायब होने के बाद युवकों ने प्राचीन सिक्के का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। खेत में सिक्के निकलने की बात गांव में फैलते ही ग्रामीणों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। सोमवार को एसडीएम डेरापुर दीपाली भार्गव को जानकारी मिली तो उन्होंने उच्चाधिकारियों को अवगत कराया। साथ ही पुलिस को सिक्के बरामद करने के लिए गांव भेजा। सिक्के पीले रंग की धातु वाले चमकदार हैं, जिनकी काफी संख्या है। चर्चा है कि कुछ सिक्के एक सुनार को दस हजार रुपये में बेचे गए हैं। एसडीएम ने बताया कि सिक्कों की बरामदगी के बाद ही उनके बारे में पता लगेगा कि कितने पुराने हैं। थाना प्रभारी नीरज कुमार यादव ने बताया कि खेत मालिक से पूछताछ कर सिक्के वापस लिए जाएंगे। पिछले वर्ष दिसम्बर में रसूलाबाद की अटिया-रायपुर में बंबी की सिल्ट सफाई में सोने के गुप्तकालीन पांच सिक्के मिले थे।