घूमने लायक है मथुरा, बेहतरीन पवित्र मंदिरों की श्रृंखला

उत्तर प्रदेश के शहर मथुरा वृंदावन शहर शानदार मंदिरों से युक्त है, उनमें से ज्यादातर शहर के अधीष्ठ देवता “यहां के प्रथम नागरिक” भगवान कृष्ण को समर्पित हैं। उत्तर प्रदेश के पश्चिमी भाग में स्थित मथुरा बृज वासियों, रिक्शा और शानदार दुकानों वाली कभी न समाप्त होने वाली गलियों का मेल है। ये मंदिर भक्तों को दिव्य युग में वापस ले जाते हुए भगवान कृष्ण के जीवन के विभिन्न चरणों को दर्शाते हैं। मथुरा हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है और भारत के सात पवित्र शहरों में से एक है। लगभग 5000 साल पहले इस स्थान पर भगवान कृष्ण का जन्म भगवान कृष्ण के मामा आततायी कंस की जेल में माता देवकी और वासुदेव के 8वें बच्चे के रूप में हुआ था। भूमि एक अद्भुत संस्कृति के साथ रंग गई है, जो आपके दिल को साथ ले जाने और आपकी आत्मा को छूने के लिए पर्याप्त है। वृंदावन मथुरा में एक पवित्र कस्बा/नगर है और ब्रज क्षेत्र में सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है जो हर साल लाखों तीर्थ यात्रियों को आकर्षित करता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान कृष्ण ने यहाँ अपना बचपन बिताया था। यहाँ तक ​​कि इस पवित्र स्थान की धूल को पवित्र माना जाता है और अक्सर भक्त इसे अपने माथे पर लगाते हैं। यह माना जाता है कि वृंदावन समय के साथ अपना अस्तित्व खो गया था। फिर 16वीं सदी में नबाद्वीप से आये संत चैतन्य महाप्रभु ने 1515 में वृंदावन की यात्रा के दौरान इसे फिर से खोजा और इसकी प्रतिष्ठा को पुनर्जीवित किया। आज ये हिन्दुओं का प्रमुख आस्था केंद्र है। ग्वालों या “चरवाहों” के घर होने के नाते मथुरा और वृंदावन दोनों ही विशेष रूप से शुद्ध दूध की पेशकश करते हैं। अतिप्राचीन काल से जुड़वा शहर सबसे अच्छे दुग्ध उत्पादों के लिए प्रसिद्ध हैं। मथुरा में मुँह में रखते ही पिघलने वाली स्वादिष्ट मिठाई जैसे पेड़ा और खुरचन के पैकेट के बिनाकोई भी यात्री वापस नहीं जाता। चाट, दही भल्ला, मीठा दूध का कुल्हर (मिट्टी का बर्तन)या दूध बादाम और ठण्डाई यहाँ पा सकते हैं। वृंदावन शुद्ध शाकाहारियों के लिए एक उपयुक्तस्थान है। विभिन्न भोजनालयों में शाकाहारी सात्विक भोजन परोसा जाता है। वे प्याज औरलहसुन का उपयोग करने से भी बचते हैं। जलजीरा और लस्सी (मक्खन दूध) एक विशेष पेय है।
श्री कृष्ण जन्मभूमि मंदिर
कृष्ण जन्मभूमि मंदिर परिसर मथुरा का मुख्य तीर्थ स्थान है और भगवान कृष्ण इसके केंद्र बिन्दु है। मंदिर परिसर से पहले दुकानों से भरी एक संकीर्ण सड़क है जहाँ पर्यटकों की सुरक्षा जाँच की जाती है। अंदर आने के बाद शांति, स्थिरता और आध्यात्मिकता प्रबल हो जाती है। श्री कृष्ण जन्मभूमि मंदिर जेल कक्ष-नुमा बना हुआ है, जिसमें उनके बुरे मामा कंस द्वारा उनके माता-पिता माता देवकी और वासुदेव को कैद करने के बाद भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। परिसर के अंदर एक छोटा तीर्थ मंदिर है जो गहनों से सजे भगवान कृष्ण को समर्पित है, यहाँ से जेल कैदियों को पानी दिया जाता था और योगमाया (नंद बाबा की बेटी) के लिए एक तीर्थ है। पौराणिक कथा में यह कहा जाता है कि इस स्थल पर मंदिर सर्वप्रथम कृष्ण के प्रपौत्र वज्रांभ द्वारा बनावाया गया था और बाद में कई शताब्दियों में फिर से इसे पुनरुद्धारित किया जाता रहा। वर्तमान मंदिर में भगवान कृष्ण के जीवन से सम्बन्धित दृश्यों के चित्र और भगवान कृष्णऔर उनकी प्यारी राधा की मूर्तियाँ हैं।
कंस किला
यमुना नदी के किनारे पर कंस किले के खंडहर हैं, जो क्रूर राजा कंस के किले के रूप में माना जाता है। हालांकि वर्तमान संरचना 16 वीं शताब्दी में राजा मान सिंह द्वारा बनवाई गई थी और बाद में महाराजा सवाई जय सिंह द्वारा परिसर में एक वेधशाला जोडी गई थी। जगह की वास्तुकला हिंदू-मुस्लिम कलात्मकता का मिश्रण दर्शाती है। यमुना नदी के उत्तरी तट पर स्थित होने के कारण पहले के समय में यह किला बाढ़ के खिलाफ एक बाधा माना जाता था। यह किला राज्य पुरातत्व विभाग द्वारा व्यवस्थित बनाए रखा गया है।
पोतरा कुंड
पोतरा कुंड कृष्ण जन्मभूमि के निकट एक बंद रेलिंग से घिरा हुआ एक बड़ा कुँआ है। कहानी कहती है कि देवकी (कृष्ण की मां) ने इस कुंड (तालाब) में अपने बच्चे के कपड़े (पोतरा) धोये थे। 3 किलोमीटर दूर बहने वाली यमुना नदी से भूमिगत पाइपों के नेटवर्क के माध्यम से इसमें जल आता है।
निधिवन
वृंदावन के सबसे प्रसिद्ध और दिलचस्प स्थलों में से एक निधिवन, एक छोटा झाडीदार स्थान है। किंवदंती है कि 5000 साल पहले भगवान कृष्ण ने यहाँ रासलीला (दिव्य नृत्य) को राधा और उनके गोपियों के साथ किया था। पत्थर का मार्ग रहस्यवादी संगीतकार स्वामी हरिदास की समाधि की ओर जाता है, भगवान कृष्णके प्रति जिनके समर्पण ने भगवान को यहाँ मूर्तरूप धारण करने के लिए प्रेरित किया। घेरे के बीच एक गोपी के नाम पर एक तालाब है ललिता कुंड, जिसने भगवान कृष्ण को नृत्य के बादपानी के लिये पूछा था। कृष्ण ने फिर पृथ्वी को अपनी बांसुरी से खोदा और वहाँ पानी उभरा।रंग महल नामक एक छोटा तीर्थ है, ऐसा कहा जाता है यहाँ भगवान कृष्ण राधा के लिए श्रृंगार(मेकअप) करते हैं। हर रात पुजारी यहाँ एक चंदन की लकड़ी की शय्या पर प्रसाधन-सामग्री छोड़ते हैं जो अगली सुबह बिखरी हुई मिलती हैं। एक और मंदिर ललिता और विशाखा द्वारा घिरीं राधा को दिखाता है, जिन्होंने भगवान कृष्ण की बांसुरी चोरी करने की साजिश रची,जिसने उनसे उनका ध्यान हटा दिया।
विश्राम घाट
यमुना नदी के किनारे स्थित विश्राम घाट शहर में सबसे लोकप्रिय घाट है। विश्राम का मतलब आराम करना है, यह माना जाता है कि अपने बुरे मामा कंस को मारने के बाद भगवान कृष्ण और उनके साथ भगवान बलराम ने यहाँ विश्राम किया था। यमुना नदी में दीपदान और मंत्र जाप के साथ इस घाट पर सांय कालीन आरती का आयोजन होता है। यह सब कुल मिलाकर एक सार्थक अनुभव प्रदान करता है। इस घाट पर मुख्य मंदिर देवी यमुना को समर्पित है, जो सजीले कपड़े, सिर पर गहनों से सुशोभित मुकुट और ताजे फूलों की माला पहने हुए हैं। यहाँ यात्रा करने योग्य अन्य 25 सुरम्य घाट हैं।
श्री रंगजी मंदिर
यह विशाल दक्षिण भारतीय-शैली का मन्दिर 1851 का है। यह मन्दिर एक व्यापारी द्वारा चिर प्रतीक्षित संतान प्राप्ति के लिए भगवान विष्णु के प्रति कृतज्ञता की अभिव्यक्ति है। 30 मीटर ऊँचा गोपुरम, एक बडा कुंड और मुख्य आंगन में एक लंबा सुनहरा स्तंभ इसकी चित्तग्राही विशेषताएँ हैं। मंदिर के अंदर शेषनाग (दिव्य नाग) पर लेटी हुई भगवान विष्णु की एक मूर्ति है। यह मंदिर मार्च-अप्रैल में आयोजित 10 दिन के रथ त्योहार के लिए जाना जाता है।
प्रेम मंदिर
प्रेम मंदिर इतालवी सफेद संगमरमर में बनाया गया अपने आप में अद्वितीय है। इसके आंतरिक भाग भगवान कृष्ण की रुचिकर लीलाओं को दिखाते है। मंदिर में दर्शनीय प्रदर्शनियां, सुंदर बगीचा और संगीत फव्वारा मनमोहक अनुभव देते है। मंदिर की सुविधाओं में रेस्तरां है और सामान्य जन सुविधाएं शामिल है। शाम में प्रकाश और ध्वनि शो इस मंदिर को अद्वितीय बनाता है।
द्वारकाधीश मंदिर
ग्वालियर प्रांत के समृद्ध कोषाध्यक्ष सेठ गोकुलदास पारिख द्वारा 1815 में निर्मित द्वारकाधीश मंदिर देश के सबसे प्रतिष्ठित मंदिरों में से एक है। शहर के उत्तर की ओर स्थित यह मंदिर भगवान कृष्ण को समर्पित हैऔर त्योहारों के दौरान श्रद्धालुओं की विशाल संख्या को आकर्षित करता है। यह मंदिर सुंदर रंगों से सजा है। यहां फूलों के डिजाइन वाले पीले स्तंभ हैं। मुख्य पवित्र स्थान, एकबडा हॉल के साथ एक ऊंचे चबूतरे पर निर्मित है।
गोकुल
हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह देहाती गाँव यमुना के तट पर मथुरा से लगभग 10 किलोमीटर दूर है। यहाँ भगवान कृष्ण को गोपनीयता में पाला गया था। हर साल गोकुल में देश भर से आये भक्त यहां के विशाल मेले के साथ कृष्ण जन्माष्टमी और नंदोत्सवके अभूतपूर्व उत्सव के साक्षी बनते है। गोकुल के दिलचस्प अन्य स्थान दाऊजी मंदिर, राजाठाकुर मंदिर, योग माया मंदिर, गोपाल लालजी मंदिर, गोकुल नाथ मंदिर, मोरवाला मंदिर, ठकुरानीघाट और नंद भवन हैं। किंवदंतियों के अनुसार बैल दानव अर्तिसा को भगवान कृष्ण द्वारा मार डाला गया था, क्योंकि एक बैल को मारना पाप माना जाता है, राधारानी और अन्य गोपियों ने भगवान कृष्ण को पश्चाताप के रूप में पवित्र नदियों में डुबकी लगाने को मजबूर किया।भगवान ने अपनी एड़ी से जमीन पर चोट की और सभी पवित्र नदियाँ निकलीं और कुंड (तालाब)भर गया। कुंड बाद में श्याम कुंड के रूप में प्रसिद्ध हो गया। राधारानी और उनकी सखियों ने अपने कंगन के साथ एक और कुंड खोद लिया। इसे राधाकुंड के नाम से जाना जाने लगा। यह जगह तब से अक्टूबर-नवंबर के महीनों के दौरान होने वाले वार्षिक अहोई अष्टमी मेले का आयोजन स्थल है।
गीता मंदिर
यह मंदिर मथुरा वृंदावन सड़क पर पडता है। ये मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है और बगीचे में एक शक्तिशाली स्तंभ के साथ संगमरमर और पत्थर का एक मिश्रित स्थापत्य है।