जानिए, नवरात्रि में घर पर कैसे करें मां दुर्गा की उपासना, ताकि वो हो जाये प्रसन्न

नवरात्रि का त्योहार हिन्दू धर्म में विशेष स्थान रखता है। नवरात्रि के पर्व में नौ दिनों तक शक्ति मां दुर्गा की उपासना की जाती है। आश्विन माह के नवरात्रि को शारदीय नवरात्रि कहते हैं जिसमें देवी के नौ अलग-अलग रूप की आराधना की जाती है। नवरात्रि शुरू होते ही घरों में कलश स्थापित कर लगातार नौ दिनों तक दुर्गा सप्तशती का पाठ, पूजा,उपवास और जागरण होते हैं। शारदीय नवरात्रि के अवसर पर आइए जानते हैं घर पर किस तरह से मां शक्ति की उपासना और पूजा पाठ करना चाहिए।

घर पर नवरात्रि पूजा विधि
– नवरात्रि पर सुबह जल्दी उठें और नित्यकर्म और स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहनें और पूजा घर को साफ करें

– नवरात्रि में मां दुर्गा की आराधना करने से पहले सभी तरह की पूजा सामग्रियों को एक जगह एकत्रित करें

– पूजा की थाली को सजाएं उसमें सभी तरह की पूजा सामग्री को रखें

– माँ दर्गा की फोटो को लाल रंग के कपड़े में रखें

– मिट्टी के पात्र में जौ के बीज को बोएं और नौ दिनों तक उसमें पानी का छिड़काव करें

– नवरात्रि के पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर शुभ मुहूर्त में कलश को लाल कपड़े में लपटेकर स्थापित करें।

– फिर कलश में गंगा जल डाले और आम की पत्तियाँ रखकर उस पर जटा नारियल रखें। नारियल में लाल चुनरी को कलावा के माध्यम से बांधें

– इसके बाद कलश को मिट्टी के बर्तन के पास जिसमें जौ बोएं है उसके पास रख दें

– फूल- माला, रौली, कपूर, अक्षत और ज्योति के साथ मां दुर्गा की पूजा करें। यही प्रकिया रोज करें

– नौ दिनों तक माँ दुर्गा का मंत्र का जाप करें और सुख-समृद्धि की कामना करें

– अष्टमी या नवमी को दुर्गा पूजा के बाद नौ कन्याओं को घर पर बुलाकर उनका पूजन करें और उन्हें भोग लगाएं

– नवरात्रि के आखिरी दिन मां दुर्गा की पूजा के बाद घट विसर्जन करें फिर बेदी से कलश को उठाएं