नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन रैली के दौरान भाजपा नेताओं को कलेक्टर, एसडीएम ने जड़े थप्पड, भगदड़

भोपाल : मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले के ब्यावर में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में रविवार दोपहर ब्यावरा में निकाली जा रही रैली के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं को रोकने पर बवाल मच गया. दरअसल चेतावनी के बाद भी जब कार्यकर्ता नारेबाजी करते रहे तो कलेक्टर निधि निवेदिता ने भाजपा के मीडिया प्रभारी रवि बड़ोने को थप्पड़ मार दिया. इससे रैली में शामिल लोग भड़क गए. इसके बाद पुलिस ने सख्ती की तो मौके पर भगदड़ मच गई. इस दौरान लाठीचार्ज में दो कार्यकर्ता घायल हो गए. कलेक्टर निवेदिता के बाद डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने भी एक कार्यकर्ता को पकड़कर थप्पड़ जड़ दिए जिसके बाद एक युवक ने डिप्टी कलेक्टर से अभद्रता कर दी. पुलिस ने धारा 144 का उल्लंघन करने के मामले में 12 नामजद सहित 124 लोगों के खिलाफ धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया है. इसके साथ ही डिप्टी कलेक्टर से अभद्रता करने के मामल में दो अज्ञात युवकों पर छेड़छाड़ और शासकीय कार्य में बाधा का डालने का केस दर्ज किया है. राजगढ़ में सीएए के समर्थन में निकाली जाने वाली रैली का कार्यक्रम पहले से तय था. वहीं इस रैली को रोकने के लिए कलेक्टर ने धारा-144 लगाकर ब्यावरा की सीमाएं सील कर दी थीं इसके चलते बाजार भी बन्द थे. पूर्व नियोजित कार्यक्रम के तहत रविवार दोपहर एक बजे वैष्णोदेवी मंदिर से रैली की शुरुआत के पहले सुंदरकांड पाठ का चल रहा था. इस दौरान कलेक्टर और एसपी प्रदीप शर्मा पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद रहे. सुंदरकांड के बाद जब कार्यकर्ताओं बाहर निकलने लगे तो कलेक्टर निधि निवेदिता ने गेट बंद करना चाहा. इस दौरान पूर्व विधायक अमरसिंह यादव को कलेक्टर ने पकड़ लिया, लेकिन वे जैसे-तैसे आगे बढ़ गए.

रैली के लिए आगे बढ़ रहे कार्यकर्तओं को जब मंदिर के पास पुलिस ने हिरासत में लेने की कोशिश की तो पूर्व विधायक मोहन शर्मा सहित अन्य नेताओं की अफसरों से तीखी बहस हो गई. इस दौरान कलेक्टर ने भाजपा मीडिया प्रभारी रवि बड़ोने को थप्पड़ जड़ दिया. वहीं बड़ोने ने कहा कि हम लोग कलेक्टर से निवेदन कर रहे थे, लेकिन उन्होंने थप्पड़ मार दिया. वहीं कलेक्टर पर अन्य युवकों को भी को भी पीटने का आरोप लगा है. कलेक्टर निधि निवेदिता ने कहा कि हमने धारा 144 लगाई थी. जो अराजक तत्व अपनी बात मनवाना चाहते थे, वे यहां आए थे. हमने सोचा कि गेट बंद कर दें, ताकि इन्हें जो करना है अंदर करें. तभी पूर्व विधायक वहां पहुंचे. लोगों को बरगलाना शुरू कर दिया. उन्हें एक तरफ बैठाना चाहा, लेकिन वे मुझसे छूटकर लोगों को साथ लेकर आगे बढ़ गए. कुछ लोगों ने हमारी महिला अधिकारी के साथ भी अभद्रता की है. भाजपा ने इस मामले को बड़ा मुद्दा बना लिया हे, बीजेपी विधायक विस्वास सारंग ने इसे अराजक सरकार बताते हुए कलेक्टर के ख़िलाफ़ करवाई करने की माँग की है।