भारत-अमेरिका के बीच 3 बिलियन डॉलर से अधिक की रक्षा डील

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मंगलवार को द्विपक्षीय संबंधों के पूरे क्षेत्र को कवर करते हुए व्यापक वार्ता की, जिसमें रक्षा, सुरक्षा और व्यापार और निवेश के प्रमुख क्षेत्र शामिल रहे। इस द्विपक्षीय वार्ता के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत-अमेरिका का साझा बयान जारी किया, जिसमें बताया गया कि भारत-अमेरिका के बीच 3 बिलियन डॉलर के एक बड़े रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। पीएम मोदी ने बताया कि दोनों देशों के बीच व्यापार समझौते पर सहमति बनाने के लिए बातचीत होगी। वहीं साझा बयान से पहले मीडिया के समक्ष वार्ता में अपनी संक्षिप्त टिप्पणी में प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत किया और उन्हें भारत यात्रा के लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद दिया। इसके जवाब में राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा कि भारत में पिछले दो दिन अद्भुत थे, विशेषकर अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में हुआ। ट्रम्प ने इस दौरान मीडिया के सामने पीएम मोदी से कहा कि यह मेरे लिए बहुत सम्मान की बात थी। लोग आपसे प्यार करते हैं। इस साझा बयान के दौरान ट्रंप ने कहा कि दोनों देशों ने एक व्यापक व्यापार समझौते पर बातचीत के लिए सहमति जताई है और मैं आशा करता हूं कि दोनों देशों के लिए हम ये बहुत महत्व का सौदा कर सकते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जब से मैंने पदभार संभाला है, भारत में अमेरिकी निर्यात लगभग 60 प्रतिशत है और उच्च गुणवत्ता वाली अमेरिकी ऊर्जा का निर्यात 500 फीसदी तक बढ़ा है। ट्रंप ने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान हमने एक सुरक्षित 5G वायरलेस नेटवर्क के महत्व पर चर्चा की और इस उभरती हुई तकनीक के लिए स्वतंत्रता, प्रगति, समृद्धि के लिए एक उपकरण होने की आवश्यकता है।

ट्रंप ने इस दौरान कहा कि हमारी चर्चाओं में, पीएम मोदी और मैंने कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद से हमारे नागरिकों की रक्षा के लिए हमारे दोनों देशों की प्रतिबद्धता की पुष्टि की। इस प्रयास में अमेरिका, पाकिस्तान के साथ काम कर रहा है ताकि उसकी धरती पर काम करने वाले आतंकवादियों का सामना किया जा सके। डोनाल्ड ट्रंप ने बताया कि हमने अपाचे और एमएच-60 रोमियो हेलीकॉप्टर सहित दुनिया में बेहतरीन- उन्नत अमेरिकी सैन्य उपकरणों के 3 बिलियन डॉलर से अधिक की खरीद के लिए भारत के साथ समझौतों के साथ अपने रक्षा सहयोग का विस्तार किया। ये हमारी संयुक्त रक्षा क्षमताओं को बढ़ाएंगे। इस दौरान ट्रंप बोले कि मेलानिया और मैं भारत की महिमा और भारतीय लोगों की असाधारण उदारता और दया से जागे हैं। हम आपके देश (पीएम मोदी के देश के) नागरिकों के शानदार स्वागत को हमेशा याद रखेंगे। भारत-अमेरिका के बीत साझा बयान के दौरान पीएम मोदी बोले कि भारत और अमेरिका के बीच विशेष संबंध का सबसे महत्वपूर्ण आधार लोगों से संपर्क करने वाले लोग हैं। पेशेवर, छात्रों, संयुक्त राज्य अमेरिका में भारतीय प्रवासी का इसमें बड़ा योगदान है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा कि हमारे वाणिज्य मंत्रियों ने व्यापार पर सकारात्मक बातचीत की है। हम दोनों ने फैसला किया है कि हमारी टीमों को इन व्यापार वार्ता को कानूनी रूप देना चाहिए। हम एक बड़े व्यापार सौदे पर बातचीत खोलने के लिए भी सहमत हुए। इस दौरान मोदी ने कहा कि हमने (भारत और अमेरिका) आतंकवाद का समर्थन करने वालों को जिम्मेदार बनाने के प्रयासों को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया। आज हमने भारत-अमेरिका साझेदारी के हर महत्वपूर्ण पहलू पर चर्चा की, यह रक्षा और सुरक्षा, ऊर्जा रणनीतिक साझेदारी, व्यापार या लोगों से लोगों के संबंध। भारत और अमेरिका के बीच रक्षा संबंधों में मजबूती हमारी साझेदारी का एक महत्वपूर्ण पहलू है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय वार्ता के दौरान कहा कि पिछले दो दिन, विशेषकर कल स्टेडियम में, यह मेरे लिए बहुत सम्मान की बात थी। लोग मेरे लिए आपसे शायद ज्यादा थे। 125 हजार लोग अंदर थे। हर बार जब मैंने आपका उल्लेख किया, तो उन्होंने और अधिक खुश किया। लोग आपको यहां प्यार करते हैं। दिल्ली के हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रंप से कहा कि मैं आपका (अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प) और भारत में अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करता हूं। मुझे पता है कि आप इनदिनों व्यस्त हैं, फिर भी, आपने भारत की यात्रा के लिए समय निकाला। इसके लिए मैं आपका आभारी हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पक्षीय संबंधों के पूरे क्षेत्र को कवर करते हुए व्यापक वार्ता की, जिसमें रक्षा, सुरक्षा और व्यापार और निवेश के प्रमुख क्षेत्र शामिल हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ बातचीत की। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हैदराबाद हाउस में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप भी मौजूद रहीं। गौरतलब है कि सोमवार को अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि तीन अरब डॉलर कीमत के अत्याधुनिक सैन्य हेलीकाप्टर और अन्य उपकरणों के लिए मंगलवार को समझौते किए जाएंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच तीन अरब डॉलर के हेलीकॉप्टर खरीद समझौते का जिक्र किया और कहा कि अमेरिका भारत का सबसे मजबूत सैन्य साझेदार बनना चाहता है और इस बारे में हम बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका दुनिया में सबसे बेहतरीन हथियार व सैन्य उपकरण बनाता है और वे सभी उपकरण भारत को मुहैया कराने की पेशकश भी की। वहीं ट्रंप ने भारत-अमेरिका के बीच चल रही ‘ट्रेड वार्ता’ का भी जिक्र किया और माना कि भारत के साथ इस मुद्दे पर बात करना आसान नहीं है। मोदी को एक कठिन वार्ताकार (टफ नेगोशिएटर) बताते हुए उन्होंने कहा, ‘हम भारत के साथ एक शानदार ट्रेड समझौते पर बात शुरू कर चुके हैं जो दोनों देशों में निवेश करने को काफी आसान बना देगा। हम अभी तक का सबसे बड़ा ट्रेड समझौता करने जा रहे हैं।