महाराष्ट्र में छुट्टियों मनाने के लिए मुंबई से भी अच्छी जगहें हैं ये

- in पर्यटन

यदि कोई कहे कि महाराष्ट्र में छुट्टियां मनाने जाएं तो सबके दिमाग में केवल मुंबई का ही नाम आएगा, लेकिन मुंबई के भीड़ भरे इलाके से दूर महाराष्ट्र में एक ऐसा हिल स्टेशन है, जहां की सैर करने का अपना अलग आनंद होता है| जी हां, आज हम आपको ले चलते हैं महाराष्ट्र के नन्दूरबार जिले के तोरणमाल  हिल स्टेशन पर…|

सतपुड़ा पर्वतश्रेणी का एक ऐसा भाग, जो अपने में एक अनूठा संसार समाहित किए हुए है| पर्यटन से लेकर धार्मिक महत्व तक और जलवायु से लेकर हरियाली तक यहां का सबकुछ विशेष है|

यहां आने के लिए शहादा से पहुंचा जा सकता है| यहां से तोरणमाल 50 किलोमीटर है| यहां गुजरात के सूरत से भी आया जा सकता है| सूरत से तोरणमाल  की दूरी लगभग 250 किलोमीटर है|

नन्दूरबार महाराष्ट्र के खानदेश क्षेत्र का ही एक जिला है| पहले धुले शहर भी इसी के साथ मिला हुआ था, जो सन 1988 में इससे अलग हुआ |

अब आइए जानते हैं यहां के खास स्थलों के बारे में –

सीता खाई

सीता खाई  तोरणमाल के पास सतपुड़ा की पहाड़ियों में स्थित एक घाटी है, जो सीधा खाई का परिष्कृत रूप है| इसका अर्थ होता है सीधी सपाट घाटी | सीता खाई यूं तो  मनमोहक है ही परंतु बरसात के दिनों में यह खाई और आकर्षक हो जाती है| यह खाई हरी घास की चादर से पूरी तरह अपने आप को ढंक लेती है |

यशवंत झील

यशवंत झील तोरणमाल  की एक आकर्षक एवं अद्भुत झील है, जिसका निर्माण यशवंत सिंह चौहान के नाम पर रखा गया है| यदि कोई तोरणमाल  में पिकनिक मनाने के लिए जाना चाहता है तो उसके लिए इस झील से बेहतर स्थान नहीं होगा |

झारली

झारली नन्दूरबार जिले में तोरणमाल  के निकट ही स्थित है | यहां तोरणमाल  से टैक्सी या कार द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है| कहने को तो झारली एक जंगली क्षेत्र है परन्तु यहां एक जलप्रपात अवस्थित है, जो इसे बेहद ख़ास बना देता है| यहां का वातावरण बड़ा ही शांत और सुरम्य है, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है| स्थानीय लोग इसे झारनी भी कहते हैं|

प्रकाशा

तोरणमाल जैसे रमणीय स्थल पर यदि कोई तीर्थस्थान मिल जाए तो सोने पे सुहागा हो जाता है| यहां प्रकाशा नंदुरबार जिले का लोकप्रिय तीर्थस्थल है। यह तीर्थस्थल तापी नदी के किनारे शहादा-तलोदा रूट पर पड़ता है। भगवान महादेव के मंदिरों के कारण इसे दक्षिण काशी से जोड़ा जाता है। भगवान केदारेश्वर से संबंधित धार्मिक ग्रंथ केदारेश्वर महात्म्य में इस स्थान का उल्लेख मिलता है।

सभी बॉलीवुड तथा हॉलीवुड मूवीज को सबसे पहले फुल HD Quality में देखने के लिए यहाँ क्लिक करें