यहां ड्यूटी पर सोने और सिगरेट पीने पर भूत जड़ देती है जोरदार झापड़

- in अजब-गजब
देश में कई भूतिया महलों के बारे में आपने सुना होगा। वैसे भी राजस्‍थान में तो  ऐसे भूतिया किलों की तो भरमार है। वैसे इनके भूतिया होने के पीछे कोई शक भी नहीं होना चाहिए। इसके पीछे कारण है कि इनके भूतिया होने के सबूत भी समय-समय पर मिलते रहे हैं और यही वजह है कि इनमें से कई जगहों को शाम ढलते ही पर्यटकों के लिए बंद कर दिया जाता है। इनमें से एक है राजस्‍थान के कोटा का ब्रज राज भवन पैलेस। आइए जानें क्‍या है इसकी सच्‍चाई…।
देश में कई भूतिया महलों के बारे में आपने सुना होगा। वैसे भी राजस्‍थान में तो  ऐसे भूतिया किलों की तो भरमार है। वैसे इनके भूतिया होने के पीछे कोई शक भी नहीं होना चाहिए। इसके पीछे कारण है कि इनके भूतिया होने के सबूत भी समय-समय पर मिलते रहे हैं और यही वजह है कि इनमें से कई जगहों को शाम ढलते ही पर्यटकों के लिए बंद कर दिया जाता है। इनमें से एक है राजस्‍थान के कोटा का ब्रज राज भवन पैलेस। आइए जानें क्‍या है इसकी सच्‍चाई...।  यहां है ये इमारत  ये राजस्‍थान की बेहद प्राचीन इमारत है। सिर्फ यही नहीं अपने बेहद विचित्र इतिहास के लिए ये जानी जाती है। बता दें कि ये इमारत करीब 180 साल पुरानी है। 1980 में इसको ऐतिहासिक होटल घोषित कर दिया गया। इस ऐतिहासिक होटल में भूत हैं इस बात के कई सबूत मिल चुके हैं। यहां आने वाले पर्यटक इस बात के गवाह होते हैं।   पर्यटकों ने भी किया हुआ है ये अहसास  सिर्फ पर्यटक ही नहीं इस बात की गवाही तो यहां नौकरी करने वाले लोग भी दे चुके हैं। रात की ड्यूटी पर तैनात गार्ड उस भूतिया अनुभव को झेल भी चुके हैं। अब तक के गार्ड्स बताते हैं कि रात की ड्यूटी के दौरान अगर कोई गार्ड सो जाता है तो भूत उसको झापड़ मारकर जगाता है। अब सवाल ये उठता है कि अक्‍सर लोगों को दिखने वाला ये भूत है किसका।   ऐसा मानना है जानकारों का  जानकारों का ऐसा मानना है कि ये भूत मेजर बर्टन नाम के एक शख्‍स का है। मेजर बर्टन के बारे में बतया गया है कि वो ब्रिटेन से भारत आए थे। 1857 की क्रांति के दौरान वो कोटा में ही नौकरी करते थे। उस समय क्रांतिकारियों में ब्रिटिश शासन को लेकर जबरदस्‍त आक्रोश था। वह अंग्रेजों के पांव उखाड़ फेकने के लिए पूरी तरह से जोश में आ चुके थे।   क्रांतिकारियों ने उतारा मौत के घाट  इसी समय इन क्रांतिकारियों ने मेजर बर्टन को घेरा। उस समय बर्टन जालिम ब्रिटिश हुकूमत का प्रतिनिधित्‍व कर रहे थे। तभी क्रांतिकारियों ने उनको मार डाला। इसके बाद क्रांतिकारियों ने मेजर बर्टन के बेटों को भी मार डाला। ऐसा माना जाता है कि उस घटना के बाद से मेजर बर्टन की आत्‍मा बेहद अशांत रहने लगी। उस समय से उनकी आत्‍मा इसी होटल में भटक रही है।   खासतौर पर हॉल में होता है भूत का अहसास  वैसे तो खासतौर पर होटल के उस हॉल में उनकी आत्‍मा के होने का दावा किया जाता है जहां पर उनकी मौत हुई थी। इसी के साथ ये भी कहा जाता है कि वो ड्यूटी को लेकर काफी पाबंद थे। यही कारण है कि नाइट ड्यूटी पर सोने वाले गार्ड को इनका भूत आकर झापड़ मारकर जगा देता है। इसके साथ ही इनके भूत को सिगरेट पीने वालों से भी सख्‍त नफरत है।
यहां है ये इमारत
ये राजस्‍थान की बेहद प्राचीन इमारत है। सिर्फ यही नहीं अपने बेहद विचित्र इतिहास के लिए ये जानी जाती है। बता दें कि ये इमारत करीब 180 साल पुरानी है। 1980 में इसको ऐतिहासिक होटल घोषित कर दिया गया। इस ऐतिहासिक होटल में भूत हैं इस बात के कई सबूत मिल चुके हैं। यहां आने वाले पर्यटक इस बात के गवाह होते हैं।
पर्यटकों ने भी किया हुआ है ये अहसास
सिर्फ पर्यटक ही नहीं इस बात की गवाही तो यहां नौकरी करने वाले लोग भी दे चुके हैं। रात की ड्यूटी पर तैनात गार्ड उस भूतिया अनुभव को झेल भी चुके हैं। अब तक के गार्ड्स बताते हैं कि रात की ड्यूटी के दौरान अगर कोई गार्ड सो जाता है तो भूत उसको झापड़ मारकर जगाता है। अब सवाल ये उठता है कि अक्‍सर लोगों को दिखने वाला ये भूत है किसका।
ऐसा मानना है जानकारों का
जानकारों का ऐसा मानना है कि ये भूत मेजर बर्टन नाम के एक शख्‍स का है। मेजर बर्टन के बारे में बतया गया है कि वो ब्रिटेन से भारत आए थे। 1857 की क्रांति के दौरान वो कोटा में ही नौकरी करते थे। उस समय क्रांतिकारियों में ब्रिटिश शासन को लेकर जबरदस्‍त आक्रोश था। वह अंग्रेजों के पांव उखाड़ फेकने के लिए पूरी तरह से जोश में आ चुके थे।
क्रांतिकारियों ने उतारा मौत के घाट
इसी समय इन क्रांतिकारियों ने मेजर बर्टन को घेरा। उस समय बर्टन जालिम ब्रिटिश हुकूमत का प्रतिनिधित्‍व कर रहे थे। तभी क्रांतिकारियों ने उनको मार डाला। इसके बाद क्रांतिकारियों ने मेजर बर्टन के बेटों को भी मार डाला। ऐसा माना जाता है कि उस घटना के बाद से मेजर बर्टन की आत्‍मा बेहद अशांत रहने लगी। उस समय से उनकी आत्‍मा इसी होटल में भटक रही है।
खासतौर पर हॉल में होता है भूत का अहसास
वैसे तो खासतौर पर होटल के उस हॉल में उनकी आत्‍मा के होने का दावा किया जाता है जहां पर उनकी मौत हुई थी। इसी के साथ ये भी कहा जाता है कि वो ड्यूटी को लेकर काफी पाबंद थे। यही कारण है कि नाइट ड्यूटी पर सोने वाले गार्ड को इनका भूत आकर झापड़ मारकर जगा देता है। इसके साथ ही इनके भूत को सिगरेट पीने वालों से भी सख्‍त नफरत है।