राखी के बाद ससुराल से आई पत्नी तो, पति को दिखा कुछ ऐसा की कर डाली हत्या

- in अपराध

आजकल का ज़माना इतना खराब हो गया है की रिश्तों की तो कोई अहमियत ही नही रह गयी है धीरे धीरे इन रिश्तों में भी पैसे का लालच दिखने लगा है और चाहे वो कोई भी रिश्ता हो पैसा सबसे आगे है बाकि सब पीछे| शादी जैसे पवित्र बंधन में भी दहेज़ रुपी दानव ने अपनी बड़ी जगह बना ली है| और आजकल तो पैसे के बिना कोई अच्छा रिश्ता भी  नही मिलता| तो आज हम आपके लिए जो खबर लेकर आये हैं वो भी कुछ ऐसी ही कहानी बयां करती है|

आज की जो एक घटना है वो है संगरूर की जिसमे एक इन्सान ने अपने ही ससुर की बड़ी ही निर्मम तरीके से हत्या कर डाली लेकिन उस शक्श ने इस जघन्य काम को अंजाम जिस कारण से दिया वो जानकर आपके भी पैरों तले जमीन खिसक जाएगी |दरअसल 26 अगस्त को रक्षाबंधन के त्यौहार पर एक पत्नी अपने मायके गयी हुई थी अपने भाई को राखी बंधने के लिए और जिस तरह से रक्षाबंधन पर ये रित बनायीं गयी है की जब भी बहन अपने भाई  के रक्षा के लिए  रक्षाबंधन पर रक्षा का पवित्र सूत्र  बांधती है तो बदले में भाई अपने बहन  की रक्षा करने का वचन देता है साथ ही उसे कुछ न कुछ गिफ्ट भी जरुर देता है |

ऐसा ही कुछ हुआ था इस बहन के साथ भी जिसका नाम नेहा गुप्ता है और पांच साल पहले  ही मोहन लाल से उसकी  शादी हुई थी |रक्षाबंधन के बाद जब नेहा अपने भाई को रक्षाबंधन पर राखी बांधने के बाद वापस अपने ससुराल आई तो उसके ससुराल वाले उसके ऊपर आगबबुला हो गये और इसके  पीछे वजह ये थी की बहन  के पास राखी का कुछ खास उपहार नहीं था |और ऐसा पहली बार नहीं हुआ था नेहा के साथ क्योंकि नेहा ने बताया की जब उसकी शादी हुई थी तब शादी के कुछ ही महीनो बाद उसके ससुराल वाले उस्ससे दहेज़ की डिमांड करने लगे और उसे प्रताड़ित करते थे |उसके साथ  मारपीट भी करते  थे |

जानकारी के मुताबिक अपने भाई को राखी बाँधने के बाद जब नेहा वापिस अपने ससुराल आई तो उसके पति मोहन लाल ने उससे पूछा की  राखी  पर  तुम्हारे भाई ने तुम्हे क्या क्या सामान दिया है और तब नेहा ने  कुछ शगुन और अन्य उपहार दिखा दिए।जब मोहन लाल ने  ये सब देखा तो वो अपनी पत्नी नेहा के ऊपर भड़क उठा की तुम्हारे भाई ने तुम्हे सोने का कोई सामान क्यों न दिया और  कोई खास सामान नहीं दिया और फिर वो नेहा से मारपीट करने लगा इसके बाद तुरंत नेहा के मायके फ़ोन लगाकर नेहा के पिता अनिल कुमार से भी ये सारी बाते बताई |

इस तरह से दामाद का  फ़ोन आने से नेहा के घर वाले भी परेशान हो गये जिसके बाद राखी के अगले ही  दिन नेहा के पिता अनिल कुमार, भाई सौरभ गुप्ता, उनके दो मित्र जतिंदर सिंह व दीवान सिंगला उसके ससुराल लहरा मोहन लाल और  के मायके वालों के बीच तकरार काफी ज्यादा बढ़ गयी |जिसके बाद मोहन लाल ने नेहा के पिता के हाथापाई भी करने लगा और नेहा के पति ने नेहा के पिता के छाती पर जोरदार मुक्के से कई बार वार कर दिया जिसके बाद वे बेहोश हो गये तब नेहा के भाइयों ने उन्हें वहाँ से लेकर तुरंत अस्पताल के लिए रवाना हुए लेकिन उनकी हालत बेहद गम्भीर हो चुकी थी जिसके चलते उनकी रास्ते में ही मौ-त हो गयी |

इस तरह से नेहा के पिता को नेहा के पति ने बड़ी ही बर्बरता से मौ-त के घाट उतार दिया जिसके बाद  नेहा ने  अपने ससुराल के नौ लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई जिसमे उसके पति मोहन लाल, ससुर तरसेम लाल, सास किरणा देवी, ननद मीना रानी, जेठ सोहन लाल व दो अज्ञात महिलाओं व दो पुरुषों ना नाम शामिल और और पुलिस ने इन सबके के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है और उन सबकी छानबीन करने में लगी है |