सट्टेबाज संजीव चावला का प्रत्यर्पण, बढ़ सकती है कई पूर्व क्रिकेटरों की मुश्किलें!

नई दिल्ली : सट्टेबाज संजीव चावला के भारत प्रत्यर्पण से कई पूर्व भारतीय क्रिकेट सितारे मुश्किल में पड़ सकते हैं। दिल्ली पुलिस दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान दिवंगत हैंसी क्रोनिये से जुड़े मैच फिक्सिंग मामले के कथित मास्टरमाइंड को गुरुवार को लंदन से भारत लेकर आई है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के सूत्रों ने आरोप पत्र के हवाले से कहा कि मैच फिक्सिंग मामले में अभी तक फरार चल रहा ब्रिटिश नागरिक चावला भारतीय खिलाडिय़ों सहित कई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के साथ जुड़ा हुआ था। क्राइम ब्रांच द्वारा संजीव चावला पर तैयार डोजियर से पता चलता है कि उसके लंदन स्थित 4मोंक विले एवेन्यू बंगले में कई भारतीय क्रिकेट्र्स का आना-जाना लगा रहता था। इतना ही नहीं, पुलिस द्वारा बरामद चावला की फोन सूची से वर्ष 2000 के जनवरी से मार्च के बीच कॉल डेटा रिकॉड्र्स (सीडीआर) में उन क्रिकेट्र्स के फोन नंबर पाए गए हैं। भारत में वर्ष 2000 में खेली गई भारत-दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट सीरीज के मैचों को फिक्स करने का खुलासा हुआ है। यह 2000 में फरवरी से मार्च के बीच की घटना है जब भारत में भारत-दक्षिण अफ्रीका सीरीज के दौरान मैच फिक्स करने की साजिश का खुलासा हुआ था। दिल्ली पुलिस के एक पूर्व आयुक्त ने आईएएनएस से कहा कि चावला के लंदन भाग जाने के बाद उससे पूछताछ नहीं की जा सकी। बाद में तत्कालीन भारतीय क्रिकेटरों को वैश्विक सट्टेबाजों से जोडऩे वाले सीडीआर की भी जांच नहीं हो पाई थी। क्राइम ब्रांच ने स्कॉटलैंड यार्ड से भी दस्तावेज इकट्ठा किए हैं।

स्कॉटलैंड यार्ड के अधिकारियों ने चावला को वर्ष 2001 में इंग्लैंड के खिलाडिय़ों से जुड़े एक और सट्टेबाजी के मामले में गिरफ्तार किया था। क्राइम ब्रांच ने इंग्लैंड के क्रिकेटरों की संलिप्तता वाले सट्टेबाजी के एक अन्य मामले में चावला को गिरफ्तार करने वाली स्कॉटलैंड यार्ड से भी दस्तावेज लिए हैं। इंग्लैंड के पूर्व ऑलराउंडर क्रिस लुईस ने आरोप लगाया था कि चावला ने इंग्लैंड के तत्कालीन कप्तान एलेक स्टीवर्ट को मैचों में खराब प्रदर्शन करने के लिए रिश्वत की पेशकश की थी। इसके बाद स्कॉटलैंड यार्ड ने लुईस के बयान के आधार पर चावला और एक प्रमुख भारतीय प्रमोटर से पूछताछ की थी।