सपा अराजकता फैलाने वाली पार्टी, शांति देख बेचैन हैं अखिलेश : भाजपा

- in BREAKING NEWS, लखनऊ

लखनऊ : खुशहाल जनता, बढ़ती प्रति व्यक्ति आय, सेवा क्षेत्र में वृद्धि और अपराधों पर अंकुश को देखकर विपक्ष घबराया है। जहां प्रदेश व देश हित की बात है, वहां भी विपक्ष विरोध करने की जुगत में जुटा हुआ है। लेकिन आम जन विपक्ष की चाल को समझ चुका है। वह उनके झांसे में नहीं आने वाला है। ये बातें भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने रविवार को हिन्दुस्थान समाचार से कही। वे शनिवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा “मुख्यमंत्री की भाषा के प्रभाव के कारण प्रदेश में अराजकता बढ़ी है और सामाजिक वातावरण प्रदूषित हुआ है।” के जवाब में ये बातें कहीं। मनीष शुक्ला ने कहा कि सपा हमेशा अराजकता फैलाने वाली पार्टी रही है। इस कारण शांति देख वे बेचैन हो गये हैं। वे शांति को अशांति में बदलने की जुगत में हैं लेकिन यहां उनकी दाल नहीं गल रही है। उन्होंने कहा कि अखिलेश जी को याद होगा कि जब सपा का शासन काल था ताे “हल्ला बोल” सरकार द्वारा प्रायोजित चलाया गया था। क्या वह एक सत्ता पर बैठे किसी व्यक्ति के लिए शोभा देता है क्या? उन्होंने कहा कि इस समय जब भाजपा के कार्यकाल में सुशासन का राज चल रहा है। हर व्यक्ति अमन-चैन से जी रहा है तो यह बात अखिलेश को पच नहीं रही है। इसका कारण है सपा हमेशा अराजकता फैलाने के लिए ही जानी जाती है। ऐसे में जब उसे शांति दिखता है तो वह बेचैन हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि नियोजन विभाग की तरफ से वित्तीय वर्ष 2019-20 के आंकड़े के अनुसार ही उत्तर प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय 5.9 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई है। कृषि, पशुधन, वन में भी 2.2 फ़ीसदी और बिजली, गैस, जलापूर्ति और निर्माण कार्य में भी 1.1 फ़ीसदी की वृद्धि हुई है। सकल घरेलू उत्पाद में भी 4.4 फ़ीसदी की वृद्धि अनुमानित है। उत्तर प्रदेश में सेवा के क्षेत्र में सबसे ज्यादा 7.5 फ़ीसदी की वृद्धि अनुमानित है। इतना ही नहीं सकल घरेलू उत्पाद भी 11 लाख 87 हज़ार 277 करोड़ अनुमानित है। उन्होंने कहा कि जिसके जहां अमर्यादित लोगों का ही सम्मान होता हो, वैसे लोग मर्यादा की पाठ पढ़ायें, यह बहुत ही हास्यास्पद है। काश! वे खुद मर्यादा में रहकर राजनीति करने का सलिका सीख जाते तो ज्यादा बेहतर होता।