सरकारी नौकरियों में आई गिरावट, निजी क्षेत्र में 45 लाख लोगों को मिली नौकरी

- in व्यापार

निजी क्षेत्र में इस साल करीब 45 लाख लोगों को रोजगार मिला है। हालांकि आधे से ज्यादा रोजगार देने में केवल दो सेक्टर का योगदान रहा है। वहीं सरकारी कंपनियों में नौकरी मिलने में गिरावट देखने को मिली है। यह तब है जब सरकार मेक इन इंडिया को बढ़ावा दे रही है और बेरोजगारी की दर अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है।

आईटी, वित्तीय सेवा कंपनियों में सबसे ज्यादा नौकरी
टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक देश की टॉप 250 लिस्टेड कंपनियों में पिछले एक साल में सबसे ज्यादा लोगों को नौकरी मिली है। इसमें वित्तीय सेवा क्षेत्र में 28 फीसदी (13 लाख लोग) और 26 फीसदी हिस्सा आईटी कंपनियों का है। निजी क्षेत्र में लोगों को नौकरी मिलने में 9.2 फीसदी का इजाफा देखने को मिला है। वहीं सरकारी कंपनियों और बैंकों में नौकरी के लिए लोगों की संख्या में 2.6 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है।

इन कंपनियों में सबसे ज्यादा कटौती
लोगों को नौकरी देने के मामले में सरकारी कंपनियां और बैंक लगातार कमी कर रहे हैं। पिछले एक साल की बात करें तो फिर रोजगार देने के मामले में केवल कोल इंडिया में 4.4 फीसदी और भारतीय स्टेट बैंक में 2.6 फीसदी की कमी देखने को मिली है।

इन कंपनियों में सबसे ज्यादा कर्मचारी
लिस्टेड कंपनियों में निजी क्षेत्र की टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज में सबसे ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं। 4,20,000 कर्मचारियों की संख्या के साथ यह कंपनी पहले स्थान पर है। इस कंपनी में महिला कर्मचारियों की संख्या भी 1,52,114 है जो कि सबसे ज्यादा है। यह उनके कुल कर्मचारियों का कुल 36 फीसदी हिस्सा है। हालांकि महिलाओं की सबसे ज्यादा संख्या इंफोसिस में है, जो कि 37 फीसदी है। इस एक साल के दौरान Ques Corp ने सबसे ज्यादा 56,300 लोगों को नौकरी पर रखा था।