स्वामी चिन्मयानंद की जेल में बिगड़ी सेहत, लखनऊ भेजा गया

अपने ही कॉलेज की छात्रा से दुष्कर्म के आरोप में जेल भेजे गए पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद को सुबह 7:00 बजे एंजियोग्राफी के लिए जिला कारागार से पीजीआई लखनऊ भेज दिया गया है। सीने में दर्द की शिकायत के चलते स्वामी चिन्मयानंद को एसजीपीजीआई के एनआईसीयू में भर्ती कराया गया है। फिलहाल डॉक्टर इसकी जांच कर रहे हैं। पीजीआई के सीएमएस डॉ. अमित अग्रवाल ने बताया कि उनकी स्थिति सामान्य है। डॉक्टर शाम को उनकी तबीयत की पूरी जानकारी देंगे। रविवार को चिन्मयानंद से जेल में मिलने के लिए भाजपा के पूर्व एमएलसी जयेश प्रसाद और ददरौल के भाजपा के पूर्व विधायक देवेंद्र पाल सिंह पहुंचे। दोनों नेताओं ने उनका हाल जाना और उनकी बीमारी को लेकर जेल अधीक्षक से उन्हें केजीएमसी लखनऊ रेफर कराए जाने की मांग की थी। वहीं एसएस कॉलेज व एसएस लॉ कॉलेज से कोई भी स्वामी से मुलाकात करने नहीं पहुंचा।

मीडिया को जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि यौन शोषण के आरोप में स्वामी चिन्मयानंद का स्वास्थ्य दिन प्रतिदिन गिरता जा रहा है। डॉक्टरों ने एंजियोग्राफी के लिए उन्हें केजीएमसी रेफर करने को कहा था लेकिन जिला प्रशासन और एसआईटी उनके गिरते स्वास्थ्य को नजरअंदाज कर रहा है।

उन्होंने कहा कि खराब स्वास्थ्य को देखते हुए यदि स्वामी के साथ कोई घटना घटित होती है तो इसका जिम्मेदार एसआईटी व जिला प्रशासन होगा। उन्होंने कहा कि स्वामी से फिरौती मांगने के मामले में तीन युवकों को तो जेल भेजा गया लेकिन मुख्य आरोपी छात्रा की गिरफ्तारी नहीं की गई जबकि वीडियो में छात्रा व अन्य आरोपियों ने फिरौती मांगने की बात स्वीकार की है।

उन्होंने कहा कि एसआईटी ने जो कार्रवाई की वह पक्षपातपूर्ण नजर आ रही है। उन्होंने फिरौती मांगने वाली छात्रा समेत सभी अभियुक्तों पर एनएसए के तहत कार्रवाई की मांग की, साथ ही स्वामी के खराब स्वास्थ्य को देखते हुए उन्हें केजीएमसी लखनऊ भिजवाए जाने की मांग की।