बाहुबली मुख्तार के साम्राज्य पर हमला, LDA ने सील की बिल्डिंग

मुख्तार की अवैध बिल्डिंग सील

LDA ने लालबाग में बेसमेंट किया सील

लखनऊ, 5 जुलाई, दस्तक (ब्यूरो): कानपुर एनकाउंटर में शहीद आठ पुलिसकर्मियों की घटना के बाद योगी सरकार माफियाओं पर शिकंजा कस रही है। माफियाओं के खिलाफ हो रहे एक्शन के क्रम में रविवार को एलडीए ने लालबाग में बाहबुली मुख्तार अंसारी से जुड़े एक अवैध निर्माण का बेसमेंट सील कर दिया। कागज पर ये इमारत रईस अहमद के नाम से दर्ज है मगर आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बिल्डिंग के पीछे मुख्तार अंसारी का नाम है। चार मंजिल की इमारत में तीन मंजिल का नक्शा पास है। बेसमेंट और चौथी मंजिल का निर्माण नक्शे में नहीं है। मगर एलडीए ने इस दलील पर निर्माण नहीं तोड़ा कि चौथी मंजिल के सारे निर्माण बिना छत के हैं। इसलिए उनको ओपन स्पेस में गिना जाएगा।

मुख्तार पर एलडीए का शिकंजा

3 थानों की पुलिस, एसीएम और तहसीलदार रहे मौजूद

एलडीए की अवैध निर्माण की कोर्ट ठीक इस इमारत के पीछे ही लगाई जाती हैं। आफिस से ठीक दूसरी बिल्डिंग ही ये है। इसके बावजूद सरकार की नजर टेढ़ी होने से पहले प्राधिकरण के इंजीनियरों को यहां बनाया गया अवैध बेसमेंट और चौथी मंजिल किसी भी अभियंता को नजर नहीं आई। इस अभियान का आदेश विहित प्राधिकारी ऋतु सुहास ने दिया। जिसके बाद तीन थानों की पुलिस एसीएम, तहसीलदार राजेश शुक्ला अधिशासी अभियंता जहरूद्दीन के अलावा क्षेत्रीय थाना प्रभारी दीनानाथ मिश्र की टीम ने यहां सील करने की कार्रवाई की। बेसमेंट में लाल टेप खींच दिया गया है। इसके अलावा दीवार पर लिख दिया गया है कि अवैध बेसमेंट एलडीए द्वारा सील है। संयुक्त सचिव एलडीए ऋतु सुहास ने बताया कि चौथी मंजिल पर ओपन निर्माण हैं। इसलिए उनको ध्वस्त नहीं किया गया है।