Breaking News

दस्तक-विशेष

दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू स्तम्भ : जिस संगठन की स्थापना देश को आजादी दिलाने के लिए हुई थी। आजादी मिलने के बाद इस राष्ट्र को सजाने संवारने और इस राष्ट्र ...
Comments Off on ‘आरएसएस’ को बदनाम करने का षडयंत्र
दस्तक-विशेष स्तम्भ

बृजनन्दन राजू स्तम्भ : मकर संक्रांति लोक रूचि और जन आस्था के साथ—साथ मकर संक्रान्ति समाजिक समरसता का महापर्व है। यह व्यक्ति के बीच भेद को मिटाकर आपसी ...
Comments Off on सामाजिक समरसता का महापर्व मकर संक्रान्ति
दस्तक-विशेष स्तम्भ

भारत में अंग्रेजी नववर्ष का पागलपन क्यों ? बृजनन्दन राजू स्तम्भ : अंग्रेजों ने न केवल भारत के आर्थिक, शैक्षिक और प्रशासनिक तंत्र को नष्ट किया बल्कि उन्होंने ...
Comments Off on भारत की प्रकृति, संस्कृति से मेल नहीं खाता अंग्रेजी नववर्ष
दस्तक-विशेष स्तम्भ

भारत में अल्पसंख्यकवाद को क्यों जिंदा रखना चाहते हैं वामपंथ डॉ. अजय खेमरिया स्तम्भ : रामचन्द्र गुहा और अन्य लेखकों को विरोध प्रदर्शन करते समय पुलिस ने गिरफ्तार ...
Comments Off on नए भारत के विरुद्ध खड़े वाममार्गी बुद्धिजीवी
दस्तक-विशेष स्तम्भ

कैब का विरोध, संसद संविधान और सरकार का अपमान  बृजनन्दन राजू स्तम्भ : नागरिकता संशोधन कानून के मुद्दे पर देश के विभिन्न क्षेत्रों में विरोध के नाम पर ...
Comments Off on नागरिकता संशोधन कानून का बेजा विरोध
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : संसार की समझ जरूरी है और अपना ज्ञान भी। ज्ञान के अभाव में सब कुछ असंभव। ज्ञान से महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं। ज्ञान परम ...
Comments Off on ज्ञानी समान होकर भी एक जैसे नहीं होते
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित स्तम्भ : गीता लोकप्रिय ग्रन्थ है। वेदों की लोकप्रियता भी आसमान पर पहुंची। लेकिन गीता ने वेदों की लोकप्रियता को भी पीछे छोड़ा। गीता की लोकप्रियता ...
Comments Off on गीता की अन्तर्राष्ट्रीय लोकप्रियता
BREAKING NEWS दस्तक-विशेष स्तम्भ

मातृशक्ति का अपमान : राजनीतिक अपरिपक्वता का परिचय दे रहे पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बृजनन्दन राजू स्तम्भ : महिलाओं के बारे में जब हम विचार करते हैं ...
Comments Off on कांग्रेस की काली संस्कृति और राहुल गांधी का अमर्यादित बयान
दस्तक-विशेष स्तम्भ

हृदयनारायण दीक्षित विचार : लोकतंत्र सांस्कृतिक अभिव्यक्ति है। सबकी भागीदारी लोकतंत्र का उद्देश्य है। विचार प्रकट करने की स्वतंत्रता भारतीय लोकतंत्र की मूल ऊर्जा है। सबके अपने विचार ...
Comments Off on विचार के आधार पर बनाए जाने चाहिए राजनीतिक दल
दस्तक-विशेष स्तम्भ

रामलला भी जीते हैं और इमाम-ए-हिन्द, इस निर्णय ने नकली सेक्युलरिज्म को बेनकाब कर दिया है डॉ. अजय खेमरिया स्तम्भ : अयोध्या पर भारत की सर्वोच्च अदालत के ...
Comments Off on अयोध्या निर्णय : सेक्यूलर चश्मे से भी समझने की आवश्यकता