Breaking News

दस्तक-विशेष

अद्धयात्म दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित : स्वाद दिखाई नहीं पड़ता। सबके अपने स्वाद बोध हैं। इसलिए सबका स्वादिष्ट भी अलग-अलग है। लेकिन मीठा सबको प्रिय है। वैदिक पूर्वज मधुप्रिय जान पड़ते हैं। ...
Comments Off on हर व्यक्ति का स्वाद अलग, लेकिन मधु पदार्थ सभी को करता है आकर्षित
अद्धयात्म दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित: प्रकृति की सभी शक्तियां गतिशील हैं। हम पृथ्वी से हैं, पृथ्वी में हैं। पृथ्वी माता है। पृथ्वी सतत् गतिशील है। वह सूर्य की परिक्रमा करते हुए अपनी ...
Comments Off on सतत कर्म का कोई विकल्प नहीं
अद्धयात्म दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित : जीने की इच्छा में मृत्यु का भय अंतनिर्हित है। जितनी गहरी जीवेष्णा उतना ही गहरा असुरक्षा का भाव। भय का भाव सभी जीवों में होता ...
Comments Off on सब जीना चाहते हैं, लेकिन मृत्यु निश्चित है
अद्धयात्म दस्तक-विशेष साहित्य स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

हृदयनारायण दीक्षित : अमृत प्राचीन प्यास है। कोई मरना नहीं चाहता लेकिन सभी जीव मरते हैं। मृत्यु को शाश्वत सत्य कहा गया है। जीव मृत्यु बंधु हैं। मृत ...
Comments Off on अमृत प्यास का कुम्भ
दस्तक-विशेष स्तम्भ

के. विक्रम राव अंततः यू. पी. का एक खाकीधारी ही मूल में निकला, जिसने भारत के सत्तरसाला संघीय ढाँचे को दरका दिया| भाजपा और तृणमूल के बीच जंग ...
Comments Off on कौन है ऊपर ? पार्टी या देश !
दस्तक-विशेष स्तम्भ

के. विक्रम राव स्तम्भ : यदि उस समय तेलुगु देशम पार्टी के संस्थापक एनटी रामा राव की बात मान ली जाती तो जार्ज फर्नांडीज, अटल बिहारी वाजपेयी और ...
Comments Off on जब जार्ज, अटल, बहुगुणा चूके
दस्तक-विशेष स्तम्भ

के. विक्रम राव बापू (महात्मा गांधी) की पुण्यतिथि पर नाथूराम विनायक गोड्से की भी याद आती है| जैसे ग्रहण की बेला पर राहु-केतु| गत चन्द वर्षों से इस ...
Comments Off on गोड्से एक आकलन
दस्तक-विशेष राजनीति स्तम्भ

के. विक्रम राव अपने सारे जीवन में प्रियंका केवल दर्शक दीर्घा से ही संसद की कार्यवाही देखती रहीं| इतना ही अनुभव है| काबीना मंत्रियों का टेलीफोन पर मार्गदर्शन ...
Comments Off on प्रियंका करिश्माई होंगी !
दस्तक-विशेष स्वास्थ्य

बुढ़ापे में होने वाली बीमारियां काफी दुश्वारियां लाती हैं, इसमें एक ओर तो शरीर का प्रतिरोधक तंत्र कमजोर होता है तथा उम्र बढ़ने के साथ होने वाले दिमागी ...
Comments Off on एएलएस, अल्जाइमर और पर्किन्सन में शरीर को नुकसान पहुंचाता है खुद का प्रतिरक्षा तंत्र
दस्तक-विशेष स्तम्भ हृदयनारायण दीक्षित

स्वयं को जानना कठिन है। असंभव तो नहीं है लेकिन है बड़ा जटिल। जानने की गतिविधि में कम से कम दो भाग होते हैं। पहला जानने का इच्छुक व्यक्ति ...
Comments Off on स्वयं को देखो स्वयं के द्वारा