क्रांतिकारी खुदीराम बोस का 112 वां बलिदान दिवस मना

जौनपुर : जिले के सरावा गांव में स्थित शहीद लाल बहादुर गुप्त स्मारक पर आज हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी व् लक्ष्मी बाई ब्रिगेड के कार्यकर्ताओ ने महान क्रांतिकारी एवं स्वतंत्रता सेनानी खुदी राम बोस का 112 वां बलिदान दिवस मनाया। इस अवसर पर कार्यकर्ताओं ने शहीद स्मारक पर मोमबत्ती व अगरबत्ती जलाई और दो मिनट का मौन रख कर महान क्रांतिकारी श्री बोस को श्रद्धांजलि दी।

शहीद स्मारक पर उपस्थित लोगो को संबोधित करते हुए लक्ष्मीबाई ब्रिगेड की अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि महान क्रांतिकारी व स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी खुदी राम बोस का जन्म 3 दिसंबर 1889 को बंगाल में हुआ था। मात्र 17-18 साल की उम्र में उन्होंने देश की आजादी की लड़ाई में भाग लेना शुरू किया और मात्र 19 साल की अवस्था में श्री बोस ने एक अंग्रेज अधिकारी को मार कर घायल कर दिया, विरोध करने पर अंग्रेज की पत्नी को मार डाला। इसी वजह से अंग्रेजों ने क्रांतिकारी श्री बोस को 11 अगस्त 1908 को फांसी पर लटका दिया था।