अनुसूचित जाति के किसानों को सशक्त बनाने के लिए सीआईएसएच प्रयत्नशील 

- in TOP NEWS, फीचर्ड, लखनऊ

लखनऊ: किसानों की आय में सुधार और जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए मलिहाबाद के विभिन्न गांवों में आईसीएआर-सीआईएसएच  बागवानी तकनीकों का प्रसार कर रहा है। इस क्षेत्र के अधिकांश किसानों के पास छोटी और मध्यम भूमि जोत है। विशेष रूप से अनुसूचित जाति के किसान ज्यादातर छोटे या भूमिहीन हैं और इस प्रकार उनके पास पर्याप्त आर्थिक लाभ के लिए बाग या कृषि भूमि नहीं है। सीआईएसएचलखनऊ ने मलिहाबाद (नबीपनाह) के अनुसूचित जाति के किसानों को बागवानी प्रौद्योगिकियों एवं उनकी कृषि सम्बंधित आवश्यकताओं को समझने के लिए आमंत्रित कियायह प्रयास उनकी आजीविका में सुधार लेन के लिए था जब उनके पास खेती करने के लिए जमीन नहीं है।  संस्थान ज्यादातर बागवानी आधारित उद्यमों के माध्यम से आजीविका सुधार को बढ़ावा देता है एवं विभिन्न कृषि घटकों को एकीकृत करने के लिए अन्य आईसीएआर संस्थानों द्वारा विकसित तकनीकों का प्रदर्शन गांवों में भी किया जाता है।

स्वयं सहायता समूह के माध्यम से अनुसूचित जाति के किसानों को सशक्त बनाने की कोशिश

अनुसूचित जाति के अधिकांश किसान भूमिहीन हैंमजदूर के रूप में काम करके जीविका कमाते हैं और रोजगार के लिए उन्हें दूर के गाँव से लखनऊ शहर तक एक लंबा रास्ता तय करना पड़ता है। कमजोर वर्ग का सदस्य होने के नातेउनके पास संगठनात्मक शक्ति की कमी हैइसलिए विशेष रूप से उनकी उपज के विपणन के लिए सुनोजित मार्केटिंग की आवश्यकता है। इसलिएसंस्थान ने किसानो को अनुसूचित जाति के किसानों का एक स्वयं सहायता समूह बनाने के लिए प्रेरित कियाजो अन्य समुदाय के सदस्यों को भी मदद कर सके और वैज्ञानिकों को प्रौद्योगिकियों की उपयोगिता प्रदर्शित करने में मदद कर सके। इस उद्देश्य के लिए पहचाने जाने वाले क्षेत्रों में से प्रमुख है सूअर पालन। उनमें से कई पहले से ही इस उद्यम में हैं और प्रचलित नस्लों का उपयोग करके शरीर का वजन हासिल करने के लिए लंबी अवधि की आवश्यकता होती है। उन्नत नस्लों कोपलने  में सक्षम नहीं हैं क्योंकि उच्च कीमत उनके पहुच से बहार है। इसलिए संसथान की सहायता से  उन्नत नस्ल के नर और मादा पिगलेट प्राप्त करने के बादस्वयं सहायता समूह अन्य समुदाय के सदस्यों के साथ उनकी संख्या कई गुणा कर  साझा करेंगे। उन्नत नस्लों की भोजन की आपूर्ति एवं लगात  को कम करने के लिएसीआईएस आईसीएआर-आईवीआरआई द्वारा अनुशंसित चारा फसलों के बीज की व्यवस्था करेगा। चारे की कुछ फसलों को सूअरों द्वारा परिकल्पित बरसीम तिपतिया घास पसंद है और किसानों द्वारा इसकी खेती की जा सकती है।
एक दर्जन किसानों ने वर्मी कंपोस्टिंग का विकल्प चुना जो कि उद्यमशीलता का एक अच्छा स्रोत बन गए हैं और उन्हें सफलतापूर्वक अपनाया जा सकता है क्योंकि उनके पास खाद के लिए आवश्यक गोबर प्राप्त करने के लिए मवेशी हैं। वर्मीकम्पोस्ट की आवश्यकता दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और एक स्वयं सहायता समूह की शर्तों के अनुसार आसानी से विपणन किया जा सकता है क्योंकि सीमित संसाधनों वाले एकल किसान के लिएअच्छी कीमत पर विपणन मुश्किल है। वर्मीकम्पोस्ट का फोर्टिफिकेशन इसमें इसका मूल्य में वृद्धि सकता है और किसान  सामान्य मूल्य से दोगुना मूल्य प्राप्त कर सकता है।
काम संसाधन और ज्ञान की कमी के कारण  समुदाय स्वयं मशरूम की खेती करने में सक्षम नहीं होते हैं। इस समस्या को हल करने के लिए, CISH रेडीमेड मशरूम मशरूम बैग तैयार करने के लिए तैयार है जो किसानों के घर में मशरूम का उत्पादन कर सकते हैं। उन्हें मीडिया और स्पानिंग की तैयारी के लिए चिंता करने की ज़रूरत नहीं हैबल्कि मशरूम की फसल को देखभाल और समय पर उचित नमी प्रदान करके बैग से काटा जा सकता है।
स्व-सहायता समूह सुअर के लिए चारी का प्रबंध मंडी के कचरे को उपयोग करके करेगा इस कार्य में सामुदायिक प्रयत्न अधिक कारगर सिद्ध होंगे भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा अनुसूचित जाति के तहत बीपीएल किसान लाभार्थी होंगेस्वयं सहायता समूह के माध्यम से  विभिन्न प्रक्रियाओं को संपादित करने में सफलता होगी साथ ही साथ परिषद के अन्य संस्थानों में उपलब्ध एवं विकसित उपयुक्त तकनीकों का गांव में प्रसार करना संभव होगा| भविष्य में किसानों की आवश्यकता के अनुसार कई  प्रौद्योगिकी गांव में पहुंचाई जाएंगी  क्योंकि आर्थिक दृष्टि से कमजोर किसानों को नई तकनीक यों की जानकारी एवं उपयोग के बारे में सीमित ज्ञान रहता है|