कोरोना का असर: गोरक्षनाथ मंदिर में टूटी परंपरा, सीएम योगी ने अकेले की पूजा-अर्चना

गुरु पूर्णिमा पर पूजा-अर्चना करते सीएम योगी

गुरु पूर्णिमा पर सीएम योगी ने विधि-विधान से की पूजा-अर्चना

गोरखनाथ दरबार में सीएम की हाजिरी

लखनऊ, 5 जुलाई, दस्तक (ब्यूरो): गोरखपुर में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर इस बार सालों से चली आ रही  परंपरा पर कोरोना संक्रमण के कारण विराम लग गया है। गोरक्षनाथ मंदिर में हजारों की संख्या में श्रद्धालु भगवान गोरक्षनाथ के दर्शन पूजन कर महंत योगी आदित्यनाथ को टीका लगाकर चरण वंदन करते थे। लेकिन इस बार मंदिर प्रबंधन ने श्रद्धालुओं से अपील की थीं कि वो मंदिर न आयें अपने घर पर रह कर गुरु पूर्णिमा मनाएंगे। गुरुपूर्णिमा के अवसर पर महंत योगी आदित्यनाथ ने श्रद्धालुओं के सुखमय जीवन का आशीर्वाद दिया। दो दिवसीय दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को दोपहर पौने एक बजे गोरखनाथ मन्दिर पहुंचे। मन्दिर परिसर में पहुंचने के बाद सबसे उन्होंने गुरु गोरखनाथ के दरबार में हाजिरी लगाई और गुरु पूर्णिमा के अवसर पर पूरे विधि-विधान से उनकी पूजा अर्चना की।

गोरखनाथ मंदिर में पूजा करते सीएम योगी

वैदिक मंत्रोच्चार के बीच चरण-वंदन

मुख्यमंत्री बारी-बारी से महंत  महायोगी गम्भीरनाथ, महंत ब्रह्मनाथ, नौमीनाथ, महंत दिग्विजयनाथ और सबसे अंत में अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर गए। सभी का उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच चरण-वंदन किया और आशीर्वाद लिया। मुख्यमंत्री ने बतौर गोरक्षपीठाधीश्वर नाथ योगियों और मंदिर में रहने वाले पुजारियों को आशीर्वाद दिया।

भोग लगाते सीएम योगी

पूजा-अर्चना के बाद श्रीनाथजी को ‘रोट’ का भोग

गोरखनाथ मंदिर में गुरु पूर्णिमा पर कोरोना संक्रमण के चलते परंपरागत आयोजन तो नहीं हुआ लेकिन आनुष्ठानिक गुरु पूजा पूरे विधि-विधान से हुआ। पूजा की शुरुआत श्रीनाथजी यानी बाबा गोरखनाथ के चरणवंदन के साथ हुई। इस दौरान उन्हें मंदिर के विशेष प्रसाद ‘रोट’ का भोग लगाया गया। नाथ पूजा के बाद सभी नाथ योगियों के समाधि स्थल और देव-विग्रहों की पूजा की। नाथ पंथ के संत और पुजारी अपने-अपने गुरुओं का आशीर्वाद लिया। अंत में भंडारा लगेगा, जिसका प्रसाद मंदिर में मौजूद सभी लोगों ने ग्रहण किया। कार्यक्रम में किसी भी बाहरी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित रहा।

गुरुओं को नमन करते सीएम योगी

कार्ड के जरिए शिष्यों तक पीठाधीश्वर का संदेश

मंदिर में पूजा अर्चना करते सीएम योगी

गुरु पूर्णिमा पर अपने गुरु गोरक्षपीठाधीश्वर को तिलक लगाकर आशीर्वाद न पाने का किसी शिष्य को मलाल न रह जाए, इसके लिए कार्ड के जरिए पीठाधीश्वर का आशीर्वाद घर-घर पहुंचा दिया गया है। मंदिर प्रबंधन की ओर से भेजे गए कार्ड में पीठाधीश्वर ने अपने शिष्यों से घर में गुरु पूजा करने की अपील की है। ऐसा करने के लिए उन्होंने कोरोना संक्रमण का हवाला दिया।