नेपाल के सभी जिलों में फैला कोरोना वायरस, 12 हजार से ज्यादा मामले आये सामने

काठमांडू (एजेंसी): कोरोना वायरस महामारी अब नेपाल के सभी 77 जिलों में फैल गई है। स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी है। नेपाल में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 12 हजार के पार पहुंच गई है।

मंत्रालय के प्रवक्ता, जागेश्वर गौतम ने शनिवार को एक नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अब तक कोरोना से अप्रभावित जिले रसुवा में नौ नए मामलों की पहचान हुई है, जिसके बाद देश के सभी जिले कोविड-19 से प्रभावित हो गए हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को नेपाल में कोरोना वायरस के 554 नए मामले दर्ज किए है। देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 12,309 हो गई है, जबकि 27 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है।

नेपाल में मई के बाद से कोरोना के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। सरकार ने 10 जून को लॉकडाउन में ढील दी थी, जिससे अधिकांश आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने की अनुमति मिली। इस दौरान मामलों में लगभग तीन गुना की वृद्धि हुई।

10 जून तक नेपाल ने वायरस के केवल 4,364 मामले दर्ज किए थे। कोविड-19 के मामलों के 10,000 से अधिक होने के बाद नेपाल सरकार द्वारा परिभाषित सबसे खराब स्थिति में प्रवेश कर चुका है। मौजूदा हालात को देखते हुए सरकार देश में स्वास्थ्य आपदा की घोषणा भी कर सकती है। इसके अलावा सरकार अंतर्राष्ट्रीय मानवीय समर्थन को बढ़ाने का आह्वान कर सकती है।

मंत्रालय के संयुक्त प्रवक्ता समीर कुमार अधिकारी ने सिन्हुआ को बताया कि मंत्रालय ने स्वास्थ्य आपदा घोषित करने के लिए एक प्रस्ताव पेश किया है, जिस पर निर्णय अभी तक नहीं लिया गया है। उन्होंने कहा कि हम 30,000 संभावित संक्रमण के मामलों को देखते हुए बुनियादी ढांचा और परीक्षण किट तैयार कर रहे हैं।

हालांकि, नेपाली अधिकारियों ने कहा कि देश में अभी तक कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन नही हुआ है। यह उन लोगों के बीच सीमित हैं जो विदेश से वापस आए थे और उनमें से ज्यादातर को क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। एपिडेमियोलॉजी एंड डिजीज कंट्रोल डिवीजन के निदेशक बासुदेव पांडे ने इस हफ्ते की शुरुआत में एक प्रेस मीट में बताया कि 95 प्रतिशत संक्रमण नेपालियों के बीच हुए हैं, जो विशेष रूप से भारत से लौटे हैं।