कृषि विधेयकों के विरोध में पंजाब में रेल ट्रैक पर बैठे किसान

चंडीगढ़ : पंजाब में कृषि विधेयकों (Agricultural bill) के विरोध में किसान अब आक्रामक रुख अपनाएंगे। किसानों ने सड़क मार्ग पर चक्का जाम के साथ-साथ ट्रेनेें रोकने का एलान भी किया है। फिरोजपुर रेल मंडल ने एहतिहातन अमृतसर से चलने वाली सभी 14 स्पेशल ट्रेनों को 24 सितंबर सुबह छह बजे से 26 सितंबर रात 12 बजे तक रद करने के आदेश जारी किए हैं। कृषि बिल के विरोध में बरनाला में सुबह से ही किसान सड़कों पर उतर आए।

उन्होंने दुकानदारों से दुकानेंं बंद करने की अपील भी की। कांग्रेस, अकाली दल, आम आदमी पार्टी सहित विभिन्न संगठन किसानों के समर्थन में आए आगे। इसके बाद किसानों ने रेलवे ट्रेक पर तंबू गाड़ दिया और वहां धरने पर बैठ गए। पटियाला के नाभा में भी किसान रेलवे ओवर ब्रिज के नीचे भारतीय किसान यूनियन की अगुवाई में धरने पर बैठ गए हैं। किसानों ने कहा कि कृषि विधेयकों से किसानों पर मार पड़ेगी। नाभा के डीएसपी राजेश छिब्बर किसानों से बातचीत करने के लिए पहुुंचेे हैं। अमृतसर में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी की ओर से किसान विरोधी ऑर्डिनेंस ओं के खिलाफ रेल रोको आंदोलन आज से शुरू कर दिया गया है।

अमृतसर जिले के गांव देवीदास पुरा में रेलवे ट्रैक पर किसान मजदूर संघर्ष कमेटी और भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव सरवन सिंह ने बताया कि किसानों की ओर से आज से शुरू किया गया। रेल रोको आंदोलन 26 सितंबर तक जारी रहेगा राज्य भर में अलग-अलग जगहों पर यह रेल किसानों की ओर से रुकी जा रही है उन्होंने बताया कि 25 सितंबर के किसान भारत बंद को भी संगठन सफल बनाएगा। सरकार ने चाहे अलग-अलग राज्यों से पंजाब में आने वाली सभी ट्रेनें बंद कर दी है बावजूद इसके किसानों ने अपने तय प्रोग्राम के अनुसार रेलवे ट्रैक पर धरना देकर रोष प्रदर्शन किया। वहीं, संगरूर में भाकियू उगराहां सहित अन्य किसान संगठनों ने छाजली की रेलवे लाइन पर तीन दिवसीय पर धरना आरंभ किया। यह धरना 26 शाम तक जारी रहेगा।

धरने पर पुरुषों सहित महिला किसानों ने भी शिरकत की। उधर, रेलवे जंक्शऩ धूरी के स्टेशन सुपरिडेंट मनोज पांडे का कहना है कि इस रूट पर अभी पैसेंजर रेलगाड़ियों का आवागमन अभी नहीं है, इसलिए रेल परिवहन प्रभावित नहीं होगी। बड़ी संख्या में किसान रेलवे पुलिस व रेलवे ओवरब्रिंज के नीचे खाली जगह पर बैठकर के्ंद्र सरकार खिलाफ प्रदर्शऩ करने मे जुटे हैं। राज्य की 31 किसान जत्थेबंदियों की को-ऑर्डिनेशन कमेटी 25 को विभिन्न मार्गों पर धरना देगी। भाकियू के किसान नेता सतवंत सिंह ने बताया कि राज्यभर में आढ़ती मंडियों को बंद रखेंगे। वहीं, बुधवार को गुरदासपुर में किसान मोर्चा (औलख) ने गुरदासपुर-चंडीगढ़ मार्ग पर जाम लगाया। पूर्व सैनिकों और कलानौर में पंथक अकाली लहर ने पीएम मोदी का पुतला जलाया।