जून के आखिरी हफ्ते में आएगा हाईस्कूल और इंटर का रिजल्ट

कुल 5611072 परीक्षार्थी पंजीकृत, हाईस्कूल के 3024632 व इण्टरमीडिएट के 2586440 परीक्षार्थी

लखनऊ: प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया कि बोर्ड परीक्षा 2020 की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन का कार्य आज संपन्न हो गया है। उन्होंने बताया कि हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम जून 2020 के अंतिम सप्ताह में घोषित किया जाएगा। वर्ष 2020 की हाईस्कूल/ इण्टरमीडिएट परीक्षा में कुल 5611072 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए इनमें हाईस्कूल के 3024632 परीक्षार्थी व इण्टरमीडिएट के 2586440 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए। उन्होंने बताया कि हाईस्कूल में पंजीकृत परीक्षार्थियों में 1662334 बालक व 1362298 बालिकाएं तथा इण्टरमीडिएट में पंजीकृत परीक्षार्थियों में 1464604 बालक व 1121836 बालिकाएं हैं।

डाॅ0 शर्मा ने बताया कि वर्ष 2020 की हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट की परीक्षायें एक साथ 18 फरवरी, 2020 को प्रारम्भ हुयी । हाईस्कूल की परीक्षायें कुल 12 कार्य दिवसों में सम्पन्न होकर 03 मार्च, 2020 को तथा इण्टरमीडिएट की परीक्षायें कुल 15 कार्य दिवसों में सम्पन्न होकर 06 मार्च,2020 को समाप्त हुईं थीं।

परीक्षा समाप्ति के उपरान्त दिनांकः 16 मार्च, 2019 से मूल्यांकन प्रारम्भ हुआ। परन्तु कोविड-19 महामारी के बढ़ते संक्रमण से बचाव के निमित्त शासन के निर्देशानुसार 18 मार्च, 2020 से मूल्यांकन स्थगित कर दिया गया। उन्होंने बताया कि छात्र/छात्राओं के हित में तथा शैक्षिक सत्र के नियमन के दृष्टिगत कोविड-19 कन्टेनमेंट जोन के अन्तर्गत आने वाले जनपदों से सर्वप्रथम ग्रीन जोन के 20 जनपदों में दिनांकः 05 मई,2020 से, आॅरेन्ज जोन के जनपदों में दिनांकः 12 मई, 2020 से तथा रेड जोन के 19 जनपदों में दिनांकः 19 मई, 2020 से उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन प्रारम्भ हुआ।

कुल 281 मूल्यांकन केन्द्र निर्धारित किये गये

डाॅ0 शर्मा ने बताया कि वर्ष 2020 की परीक्षा में पंजीकृत छात्र/छात्राओं के सापेक्ष हाईस्कूल की 1,80,19,863 तथा इंटरमीडिएट की 1,29,41,714 उत्तर पुस्तिकाओं इस प्रकार कुल 3,09,61,577 उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन हेतु हाईस्कूल में 92,570 तथा इण्टरमीडिएट 54,185 कुल 1,46,755 परीक्षकों की नियुक्ति की गयी थी, तथा कुल 281 मूल्यांकन केन्द्र निर्धारित किये गये थे। मूल्यांकन केन्द्रों पर कोविड-19 से बचाव हेतु सोशल डिस्टेन्सिग सहित समस्त उपायों को अपनाते हुये विषयवार परीक्षकों को आमंत्रित कर मूल्यांकन कराया गया।

सरकार का पूर्णतया नकल विहीन परीक्षाओं का दावा

डाॅ0 शर्मा ने बताया कि वर्ष 2020 की परीक्षाओं में निर्धारित 7784 परीक्षा केन्द्रों का निरीक्षण/पर्यवेक्षण प्रथमबार जनपद स्तर पर स्थापित कन्ट्रोलरूम से तथा राज्य स्तर पर शिक्षा निदेशालय, लखनऊ में स्थापित कन्ट्रोलरूम से वेबकास्टिंग के माध्यम से किया गया। जिसके फलस्वरूप शासन की अपेक्षानुसार परीक्षायें पूर्णतया नकल विहीन सम्पन्न हुयी। कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी के चलते जिन विषम् परिस्थितियों में शासन एवं परिषद के अधिकारियों/जनपदीय शिक्षाधिकारियों/शिक्षकों द्वारा सक्रिय सहयोग प्रदान करते हुए मूल्यांकन कार्य को सम्पन्न कराया गया।