लखनऊ की उन्नति बालिका अंडर-13 व श्रीजा अंडर-11 विजेता

- in TOP NEWS, खेल
नयी दिल्ली। लखनऊ की उन्नति हुड्डा ने पीएनबी मेटलाइफ जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप के नई दिल्ली में हुए नेशनल फाइनल्स में बालिका अंडर-13 सिंगल्स का खिताब जीत लिया। उन्नति ने अहमदाबाद की आयशा गांधी को मात दी।
इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम, नई दिल्ली में हुए फाइनल में बालिका अंडर-11 सिंगल्स में लखनऊ की श्रीजा ने लखनऊ की ही आदित्या यादव को हराकर खिताब जीता।
पीएनबी मेटलाइफ जूनियर बैडमिंटन नेशनल फाइनल्स
बालिका अंडर-17 सिंगल्स में दिल्ली की आयुषी, बालक अंडर-17 सिंगल्स में चंडीगढ़ के गगन, बालिका अंडर-15 सिंगल्स में बेंगलुरू की एस.कर्निका श्री व बालक अंडर-15 सिंगल्स में बेंगलुरू के आयुष शेट्टी, बालक अंडर-13 सिंगल्स में दिल्ली के देवांग तोमर, बालक अंडर-11 में चंडीगढ़ के वेदांत पालवा, बालिका अंडर-9 सिंगल्स में शुभश्री स्मिता बरूवाती व बालक अंडर-9 सिंगल्स में बी.आकाश चांगमेई विजेता रहे।
समापन समारोह में बीडब्ल्यूएफ वल्र्ड चैंपियन, ओलंपिक रजत पदक विजेता एवं पीएनबी मेटलाइफ की ब्रांड एंबेसडर पी.वी.सिंधु, पंजाब नेशनल बैंक के एमडी एवं सीईओ सुनील मेहता और पीएनबी मेटलाइफ के एमडी व सीईओ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने विजेताओं को सम्मानित किया गया।
इस आयोजन के दौरान जेबीसी बूट कैंप की लोकप्रियता भी बढ़ी। जेबीसी बूट कैंप एक विशेष प्रकार से तैयार किया गया यूट्युब चैनल है, जो ट्युटोरियल प्रोग्राम चलाता है, ताकि बैडमिंटन से जुड़ी महात्वाकांक्षी प्रतिभाओं को बैडमिंटन एक्सपर्ट्स द्वारा बताई गई तकनीकों, सुझावों एवं ट्रिक्स के जरिए अपने कौशल को निखारने एवं उसे बढ़ाने में मदद मिल सके और वो इस खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सकें। जेबीसी बूट कैंप को दो महीने पहले लांच किया गया था। जेबीसी बूट कैंप के सब्सक्राइबर्स की संख्या 12000 से अधिक हो चुकी है और इसे 2.2 मिलियन से अधिक बार देखा जा चुका है। पीवी सिंधु, यू.विमल कुमार, विजय लैंसी एवं अनूप श्रीधर जैसे बेडमिंटन एक्सपर्ट्स के वीडियो ट्युटोरियल वाले जेबीसी बूट कैंप की सफलता इस खेल की लोकप्रियता की पुष्टि करती है।
बैडमिंटन को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के लिए इस वर्ष 32 अभावग्रस्त बच्चों को वार्षिक छात्रवृत्तियां प्रदान की गईं। पीएनबी मेटलाइफ ने अपने सीएसआर पार्टनर, चाइल्ड राइट्स ऐंड यू (क्राइ) के साथ मिलकर पीएनबी मेट लाइफ ने जिन 100 बच्चों को प्रशिक्षण प्रदान किया था, उनमें से 32 बच्चों को जेबीसी टूर्नामेंट में उनके प्रदर्शन के आधार पर चयन किया गया। वार्षिक छात्रवृत्ति में प्रोफेशनल प्रशिक्षण, खेल उपकरण, पोषण एवं खेल से जुड़े अन्य खर्चों की लागत को कवर किया जायेगा।