गूगल बाबा से नहीं, गुरु से मिलता ज्ञान

- in साहित्य

लखनऊ, 16 सितम्बर, 2019: ‘काव्य  क्षेत्रे’ साहित्यिक संस्था के तत्वावधान में हिंदी दिवस के अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी में  वरिष्ठ  कवि  श्री कमल किशोर ‘भावुक’   को ‘काव्य क्षेत्रे काव्य किरीट’ सम्मान से नवाजा गया। यह सम्मान ‘काव्य क्षेत्रे ‘ संस्था की ओर से कार्यक्रम के अध्यक्ष वरिष्ठ रचनाकार नरेन्द्र भूषण, राजेन्द्र पण्डित,  संस्था के संस्थापक अध्यक्ष हरिमोहन वाजपेयी ‘माधव’ और संस्था के महासचिव राजेंद्र कात्यायन ने प्रदान किया। इस अवसर पर संस्था के अध्यक्ष हरि मोहन वाजपेई ‘माधव’ ने सभी का स्वागत व आभार प्रकट किया ।  बाल निकुंज इंटर कालेज श्रीनगर, (मोहिबुल्लापुर) के सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम में कवि और रचनाकारों ने मनमोहक प्रस्तुतियां देकर चार चांद लगा दिए। कार्यक्रम की शुरुआत शोभा दीक्षित भावना  की वाणी वंदना से हुई।दीप प्रज्वलन नरेन्द्र भूषण  व बालनिकुंज इंटर कालेज के संचालक ह्रदय जयसवाल ने किया । विभिन्न विधाओं के कवियों ने रसधार से सबको सराबोर कर दिया। नरेन्द्र भूषण, राजेन्द्र पण्डित, मंजुल मिश्र ‘मंज़र, चंद्र देव दीक्षित, कमल किशोर ‘भावुक’, हरि मोहन वाजपेई ‘माधव’, डा सुनील शुक्ल, शोभा दीक्षित, राजेन्द्र  कात्यायन ने “गूगल बाबा से नहीं, गुरु से मिलता ज्ञान। जो तुमको शिक्षित करें, उनको दो सम्मान।।”  का काव्य पाठ किया। हिन्दी पखवाड़े पर बालनिकुँज इंटर कॉलेज के छात्रों ने काव्य पाठ किया ।अच्छा काव्यपाठ करने वाले छात्र -छात्राओं को सम्मानित व पुरस्कृत किया गया।