14 साल बाद मिला चोरी हुआ पर्स

- in अजब-गजब

मुम्बई : 42 वर्षीय हेमंत पडल्कर का वॉलेट साल 2006 में सीएसएमटी से पनवेल की लोकल में चोरी हो गया था, जिसे ‘गर्वमेंट रेलवे पुलिस’ ने 14 साल बाद ढूंढकर उनके हवाले कर दिया है। मंगलवार को हंमेत ने ‘मुंबई मिरर’ को बताया, ‘मेरा बटुआ वाशी के पास खोया था। जब मुझे इसका एहसास हुआ कि वह चोरी हो चुका है तो मैंने वाशी जीआरपी में शिकायत दर्ज करवाई।’ वह कहते हैं, ‘शुरुआत में पर्स के लिए मैंने काफी भागदौड़ की। लेकिन कुछ महीनों बाद मैं उसके बारे में भूल गया। अप्रैल में, जब मुझे वाशी जीआरपी से फोन आया तो मैं हैरान था।’

लॉकडाउन के चलते वो पिछले हफ्ते ही जीआरपी के पास जा सके। जब वह दफ्तर में पहुंचे तो ड्यूटी पर तैनात एक अफसर ने कहा कि जीआरपी ने पर्स तो ढूंढ लिया है लेकिन अफसोस वे उन्हें 500 का नोट नहीं दे सकेंगे। क्योंकि वो अब चलन में नहीं रहा। दरअसल, हेमंत का पर्स जब खोया था तो उसमें 500 के नोट सहित 900 रुपये थे।