यूटेटे-3 : दबंग दिल्ली को हराकर चेन्नई लायंस पहली बार बना चैम्पियन

- in TOP NEWS, खेल
नई दिल्ली, 11 अगस्त । चेन्नई लायंस टेटेसी ने रविवार को त्यागराज स्टेडियम में खेले गए एकतरफा फाइनल मुकाबले में दबंग दिल्ली टेटेसी को 8-1 से हराते हुए अल्टीमेट टेबल टेनिस (यूटेटे) लीग के तीसरे सीजन का खिताब अपने नाम कर लिया। चेन्नई लायंस ने पहली बार यह खिताब जीता है जबकि दिल्ली की टीम लगातार दूसरी बार खिताब नहीं जीत पाई। उसने यूटेटे के दूसरे संस्करण के फाइनल में फाल्कंस टीटीसी को 11-7 से हराते हुए 2018 में चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था। चेन्नई के लिए उसकी महिला एकल खिलाड़ी पेट्रिका सोल्जा, पुरुष एकल खिलाड़ी टियागो अपोलोनिया और मिश्रित युगल जोड़ी (अचंता शरत कमल तथा पेट्रिका) ने अपने-अपने मुकाबले जीतते हुए अपनी टीम को खिताब तक पहुंचाने का काम किया।
दिन का पहला मुकाबला महिला एकल था, जिसमें चेन्नई की जर्मन स्टार पेट्रिका का सामना दिल्ली की रोमानियाई खिलाड़ी बेर्नाडेटी जॉस्क से हुआ।  पेट्रिका ने यह मुकाबला 2-1 से अपने नाम कर अपनी टीम को बहुमूल्य अंक दिलाए। पेट्रिका ने शुरुआती दो गेम 11-5, 11-4 से अपने नाम करते हुए जोरदार शुरुआत की लेकिन जॉस्क ने 11-9 से अंतिम गेम जीतकर अपनी टीम का खाता खोला। पहले गेम में दोनों खिलाड़ी एक समय 5-5 की बराबरी पर थीं लेकिन पेट्रिका ने इसके बाद बड़े अंतर से यह गेम जीत लिया। दूसरा गेम पूरी तरह पेट्रिका के नाम रहा जबकि तीसरे गेम में जॉस्क ने वापसी करते हुए 4-4 की बराबरी के बाद लगातार अंक हासिल किए और अपना खाता खोलने में सफल रहीं।
दूसरा मुकाबला पुरुष एकल रहा, जिसमें दिल्ली के भारतीय स्टार जी. साथियान का सामना चेन्नई के पुर्तगाली खिलाड़ी टियागो अपोलोनिया से हुआ। टियागो ने शुरुआत के दो गेम जीतते हुए चेन्नई को 4-1 से आगे कर दिया। अंतिम गेम में साथियान के पास अपनी टीम को एक अंक दिलाने का मौका था लेकिन वह चूक गए और इस तरह चेन्नई की टीम 5-1 से आगे हो गई। टियागो ने यह मुकाबला 3-0 (11-6, 11-7, 11-9) से अपने नाम किया। शुरुआत के दो गेम आसानी से गंवाने वाले साथिया अंतिम गेम में एक समय 9-10 तक पहुंच गए थे लेकिन टियागो ने उन्हें कोई मौका नहीं दिया और अपनी टीम को तीन अहम अंक दिलाए और अपनी टीम को चार अंकों ही महत्वपूर्ण बढ़त दिला दी। तीसरा मुकाबला मिश्रित युगल था, जिसमें चेन्नई के लिए अचंता शरत कम और पेट्रिका ने दिल्ली के साथियान और जॉस्क का सामना किया, जो पूरी तरह एकतरफा साबित हुआ और चेन्नई के खिलाड़ियों ने 3-0 (11-7, 11-2, 11-3) से जीत हासिल करते हुए अपनी टीम को खिताब तक पहुंचा दिया। चेन्नई द्वारा अजेय बढ़त हासिल करने के कारण बाकी के दो मैचों के आयोजन की जरूरत नहीं पड़ी और इस तरह यूटेटे को इस साल एक नया चैम्पियन मिल गया।