World Photography Day: वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी में बनाएं करियर, होगी मोटी कमाई

- in कैरियर

अगर आपको नेचर और जानवरों से प्यार है और उन्हें अपने कैमरे में कैद करना चाहते हैं तो वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी में करियरबना सकते हैं. जानें- इस फील्ड के बारे में…

रोमांच भरा करियर

वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी ऐसी फील्ड है जहां एक तरफ घने जंगलों के बीच खूंखार जानवरों को अपने कैमरे में कैद करने का रोमांच है तो वहीं  इस फील्ड में खतरे भी कम नहीं हैं.

वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर बनने के लिए इन बातों का रखें ध्यान 

– एक अच्छा वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर बनने के लिए बेसिक फोटोग्राफी की जानकारी होना बेहद जरूरी है. 

– एक साधारण डिजिटल कैमरा लेकर शुरुआत की जा सकती है. एक-दो साल का एक्सपीरियंस हो जानें के बाद डिजिटल एसएलआर खरीद कर प्रोफेशनली इस फील्ड में एंट्री की जा सकती है.

कम नहीं है चुनौतियां

इस फील्ड में साहस और धैर्य की जरूरत होती है. यहां आने के बाद अपने मन-मुताबिक काम नहीं किया जा सकता. कई बार भयानक जंगल में रात में भी फोटोग्राफी करनी पड़ती है. इस क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौती खुद को अपडेट रखने की होती है साथ ही फोटोग्राफी के नए-नए टूल्स और लेंसों से खुद को अवेयर रखने की जरूरत होती है. फोटो कैप्चर करने के लिए सही एंगल का चुनाव बेहद जरूरी है. अच्छी फोटो के लिए इंतजार भी इस फील्ड में नाम कमाने का एक हिस्सा है.

सैलरी पैकेज

अभी तक यह फील्ड हमारे देश में ज्यादा फेमस नहीं था तो कमाई के साधन भी सीमित थे, लेकिन ग्लोबलाइजेशन के बाद अब इस क्षेत्र में अच्छा पैसा कमाया जा सकता है. किसी संस्थान से जुड़ने पर आप आसानी से 5-8 लाख रुपये कमा सकते हैं. इसके अलावा कुछ सीनियर फोटोग्राफर्स भी अपने असिस्टेंट रखते हैं, जो काम सिखाने के साथ पैसे भी देते हैं. 

योग्यता

12वीं या ग्रेजूएशन करने के बाद इस फील्ड में एंट्री ली जा सकती है. फोटोग्राफी का कोर्स सरकारी और निजी स्तर पर कई संस्थान कराते हैं. एक अच्छा वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर बनने के लिए बेसिक फोटोग्राफी की जानकारी होना बेहद जरूरी है.

फोटोग्राफर के लिए प्रमुख संस्थान

– जामिया मिलिया इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर, नई दिल्ली.

– फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट (एफटीआई) पुणे.

– एशियन एकेडमी ऑफ फिल्म एंड टेलीविज़न, दिल्ली.

– जे.जे. स्कूल ऑफ अप्लाइड आर्ट, मुंबई.

– सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई.

– फरग्युसन कॉलेज, पुणे.